भूला नहीं हूँ मैं, याद हैं मुझे

भूला  नहीं  हूँ  मैं,  याद  हैं  मुझे
शिकायत  करती  तुम्हारी  आँखें








भूला  नहीं  हूँ  मैं,  याद  है  मुझे
माथे  पे  चमकता  वो  चाँद  का अक्स

भूला  नहीं  हूँ  मैं,  याद  हैं मुझे
गुलाबी  गालों  संग  खेलती  काली  लटें

भूला  नहीं  हूँ  मैं, याद  है  मुझे
होठों पे  चमकती  शबनम

भूला  नहीं  हूँ  मैं, याद  है  मुझे
उम्र  से  लम्बी  ज़ुल्फों  की दास्ताँ

भूला  नहीं  हूँ  मैं, याद  है  मुझे
शोर  मचाती  चूड़ियों  का  संगीत

भूला  नहीं  हूँ  मैं, याद  है  मुझे
हथेली  पे  बना  मेहँदी  का  गुलाब

भूला  नहीं  हूँ  मैं, याद  है  मुझे
पल-पल  गाती  पायल  का  गीत

भूला  नहीं  हूँ  मैं, याद  है  मुझे
बातों  से  झड़ते  फूलों  की  ख़ुशबू

भूला  नहीं  हूँ  मैं, याद  है  मुझे


No comments