ये लाइफ कॉफ़ी की तरह है कॉफ़ी मग की तरह नहीं

कॉलेज के पुराने साथी अलुमिनाई मीट में सालों बाद मिले सारे दोस्त कैरियर में सेटल हो चुके थे कोई सरकारी अधिकारी बन गया था तो कोई किसी निजी संस्था का सी ई ओ दौलत, शोहोरत, रुतबा सबके पास था, मगर पुराने कॉलेज के दिनों वाली मस्ती-आज़ादी वो खुलापन कहीं गायब हो चुका था
सारे दोस्तों ने अपनी वर्तमान ज़िन्दगी के प्रति यही नजरिया बताया की अब उन दिनों जैसी लाइफ कहा....   
वहीँ प्रोग्राम के दौरान उनकी मुलाक़ात अपने कॉलेज के उस प्रोफ़ेसर से हुई जिनसे उनके सबसे मधुर संबंध थे प्रोफ़ेसर ने भी जब उनसे उनकी कामयाबी के बारे में पूछा तो सबने वही जवाब दिया

कुछ सोचने के बाद प्रोफ़ेसर ने उन सबको अगले दिन अपने यहाँ कॉफ़ी पीने के लिए आमंत्रित किया
अगले दिन सभी 8-10 दोस्त तय समय पर प्रोफ़ेसर के घर उसी कमरे में जुट गए जहां वो कभी टियुशन पढ़ने जाया करते थे थोड़ी देर देश-दुनिया की बातचीत करने के बाद प्रोफ़ेसर ने उन्हें कहा की वो सब बैठे तब तक वे उनके लिए कॉफ़ी बना के लाते है
कुछ देर बाद किचन के अन्दर से प्रोफ़ेसर ने आवाज़ लगाई, “स्टूडेंट्स आप सब प्लीज आकर अपने लिए कॉफ़ी ले जाए
सभी दोस्त किचन की ओर लपके, वहां खुबसूरत कॉफ़ी मग्स में उनके लिए शानदार कॉफ़ी तैयार थी साथ ही वो सारे मग्स देखने में इतने लुभावने थे कि हर एक को अपनी पसंद का मग चुनने में समय लगाना पड़ा

जब सभी स्टूडेंट्स कॉफ़ी लेकर वापस रूम में आ गए तब प्रोफ़ेसर ने उनसे कहा की मैंने देखा की आप सबने अपनी पसंद का मग चुनने में अच्छा-खासा समय दियाहालाँकि उससे कॉफ़ी के स्वाद में कोई बदलाव नहीं होने वाला मगर फिर भी आप अच्छे से अच्छा मग लेने के लिए लगे रहे और अपनी पसंद का मग लेने के बाद भी दुसरे के मग को ललचाई नजरों से निहारते रहे जबकि आपको जो सही मायने में चाहिए था वो तो कॉफ़ी थी ये मग्स तो बस कॉफ़ी पीना का एक जरिया मात्र है
सभी स्टूडेंट्स एक दूसरे का मुँह ताकने लगे, प्रोफ़ेसर ने तब कहा की “ये हमारी लाइफ भी कॉफ़ी की तरह ही है
पैसा, पोजिशन बड़ी नौकरी करोड़ों का व्यापार उस मग की तरह है जिसके लिए हम संघर्ष जीवन में करते है                  

ये सब चीज़े जिंदगी जीने के साधन है खुद ज़िन्दगी नहीं, ऐसे में हमारे पास कौन सा मग है ये हमारी ज़िन्दगी जीने के तरीके को बताता है ज़िन्दगी के असल स्वाद को नहीं  
इसलिए लाइफ में कॉफ़ी की चिंता करना ज़रूर है मग की नहीं दुनिया में वो लोग सबसे खुशहाल नहीं है जिनके पास सबकुछ है बल्कि वो लोग ज्यादा खुश है जिनके पास सबकुछ नहीं है फिर भी वो खुश है

क्योंकी वो अपने पास मौजूद सीमित साधनों का खुले दिल से इस्तेमाल करते है लाइफ को एन्जॉय करते है और खुश रहते है   

#हिंदी_ब्लोगिंग 

No comments