दंगा

किसी खुशहाल शहर के नजदीक जंगल में गिद्धों का एक परिवार रहता था। परिवार में नर-मादा गिद्ध के अलावा उनका एक छोटा सा बच्चा था। एक दिन सुबह-सुबह जब गिद्ध का जोड़ा अपने बच्चे को घोंसले में छोड़ शहर की ओर खाने की तलाश में उड़ान भरने ही वाला था कि छोटे से गिद्ध ने आकर एक फरमाइश उनके सामने रख दी।
फरमाइश ऐसी कि किसी का भी दिल दहल जाए, नन्हें गिद्ध ने अपने माता-पिता से कहा की वो रोज़-रोज जानवरों का गोश खाकर तंग आ गया है। मगर उसने सुना है कि इंसानों का गोश बड़ा ज़ायकेदार और नमकीन होता है इसलिए उसे इंसानी गोश खाना है।

अपने छोटे से बच्चे की बात सुनकर माता-पिता ने उसे समझाने का प्रयास किया कि ये संभव नहीं है, इंसान का गोश मिलना थोड़ा मुश्किल है। मगर बच्चे की जिद्द के आगे उनकी एक न चली। बच्चे ने गुस्से में कह दिया की अगर उसे इंसानी गोश खाने न मिला तो वह खाना-पीना छोड़ देगा। ऐसे में माता-पिता दोनों ने उससे वादा किया की वो पूरी कोशिश करेंगे की आज वो अपने बेटे के लिए इंसान का मांस लेकर आए। इतना कहने के साथ ही दोनो पंख फैलाए नजदीक के शहर की ओर उड़ गए।


नर गिद्ध ने जहां इंसानी गोश की तलाश में मुस्लमानों की बस्ती का रूख किया तो वहीं मादा हिन्दुओं के मोहल्ले की ओर बढ़ गई। आधे से ज्यादा दिन पार हो गया मगर कहीं भी उन्हें इंसानी मांस का कोई टुकड़ा नहीं मिला। निराश हो दोनों एक पेड़ की छाव में  बैठकर सोचने लगे की शायद आज इंसानी मांस खोज पाना नामुमकिन है। इसके बाद दोनो ने तय किया की दोनो वापस उन्हीं मोहल्लों की ओर वापस जाएंगे और जिस भी जानवर का मांस मिलेगा उसे लेकर घोंसले में लौट जाएंगे। आज वो अपने बेटे को किसी तरह मना लेगे और जल्द ही उसके लिए इंसानी गोश का जुगाड़ लगाने की कोशिश  करेंगे। नर को मुस्लिम बस्ती में जहां कसाई से गौमांस का टुकड़ा मिला वहीं मादा गिद्ध को हिन्दुओं के मोहल्ले से सूअर का मांस मिला।
घोसले में पहुंच कर जैसे ही दोनो ने अपनी चोंच में दबे मांस के टुकड़े बच्चे को दिए बच्चा समझ गया कि ये इंसान का गोश नहीं है,  गुस्साए बच्चे ने उसे खाने से मना कर दिया। इस तरह तीन दिन बीत गए मांस के टुकड़े जस के तस पड़े रहे मगर बच्चे ने खाना तो दूर उसकी तरफ देखा तक नहीं।

परेशान गिद्ध ने अपना शातिर दिमाग चलाया और गौमांस का टुकड़ा चोच में दबा कर अपनी पत्नी को भी दुसरा टुकड़ा मुंह में दबाने को कहा। फिर दोनों ने शहर की ओर एक मनहूस उड़ान भरी! थोड़ी देर में गिद्ध गौमांस मुंह में दबाए मंदिर के छत पर मंडराने लगा वहीं मादा गिद्ध भी सूअर का मांस लिए मस्जिद की मीनारों के इर्द-गिर्द चक्कर काटने लगी। मौका पाते ही दोनों ने अपना काम कर दिया। शाम ढलते तक शहर की फिज़ा बदल चुकी थी। कहीं किसी की दुकान जल रही थी तो कहीं किसी ओर दर्ज़नो झोपड़ियां आग के हवाले की जा चुकी थी। रह-रह कर गलियों-घरों से रोने,सिसकने की आवाज़े आती। सड़कों पर जली हुई गाड़ियां और यहां-वहां क्षत-विक्षत मानव शव बिखरे पडे थे।

गिद्ध के बच्चे की तमन्ना पूरी हो गई थी अब उसके पास कई दिनों तक पेट भर खाने के लिए इंसानी गोश था। उधर शहर में इंसान कफ्यू हटने का इंतजार कर रहे थे ताकि अपने बच्चों के लिए कुछ खाने का जुगाड़ कर पाए।
#हिंदी_ब्लोगिंग 


No comments