Skip to main content

मीडिया की मंडी

नब्बे के दशक में शुरू हुई उदारीकरण की नीति से भारतीय मीडिया भी अछूता नही रहा। इसी का परिणाम है कि मात्र दो दशकों में ही भारतीय मीडिया एक सफल एंव वृहत उधोग  का रूप ले चुका है। अब ये मात्र सामाजिक सरोकार की दृष्टि एंव नीति से कार्य नही करता।  बल्कि इसका भी उद्देश्य अब व्यक्तिगत लाभ तक केंद्रित होता जा रहा है। पिछले कुछ सालो में आयी निजी टीवीचैनलों एंव एफएमरेडियों की अप्रत्याशित बाढ़ ने इस क्षेत्र में निजी लोगों एवं संस्थानों का वर्चस्व इस हद तक बढ़ा दिया है कि अब ये लोग इसका प्रयोग अपने निजी स्वार्थ साधने के लिए भरपूर करते है। जिसमें अधिक से अधिक लाभ कमाना इनका मुख्य उद्देश्य है। अनगिनत खबरिया एंव मनोंरजन चैनलों के अलावा लोगों की रूचि प्राईवेट एफ0एमचैनलों में भी दिखी हैजिसके फलस्वरूप मनोरंजन का साधन माना जाने वाला मीडिया अब एक गंभीर व्यापार का रूप लें चुका है।


भारतीय मीडिया आज जिस व्यवसायिक गति से आगे बढ़ रहा है उसमें सबकुछ बिकने लगा हैं। सूर्यग्रहण से लेकर चन्द्रग्रहण तक भूकंप से लेकर बाढतक आतंकवाद ,क्रिकेटसिनेमा ,आत्महत्या करते किसान ,तनावग्रस्त स्कूली बच्चें ,बेरोजगार किशोरो की खुदकुशी, पर्यावरण एंव ग्लोबल वार्मिग के नाम पर अपने अस्तित्व की लड़ाई लडती मैली-जहरीली होती गंगा-जमुना हर पल घुलता हिमालय एंव फूहड़ता परोसते कथित रियल्टी शो तक। कोई बताएं 24 घंटे न्यूज दिखाने के नाम पर चलने वाले इन न्यूज चैनलों से भी बडा रियल्टी शो कोई और हो सकता है क्या इस बात को ये लोग भी अच्छी तरहा जानतें है कि 24 घंटे खबर दिखाना संभव नहीं है शायद इसलिए ही बीच-बीच में राजू के हसगुल्ले एंव सास बहू की साजिश दिखानी पड़ती हैजो कहीं से भी कोई खबर नही होती है।
 बहरहाल इन्हें तो चाहिए मात्र एक प्रायोजक जो इनकी उटपटांग खबरों को भी प्रायोजित कर सकें अर्थात व्यवसायिक कंपनियां जो आम आदमी की खुशीयां-गम के बहाने अपना एंव अपने द्वारा उत्पादित सामानों का प्रचार-प्रसार कर अपना व्यवसाय विस्तार कर सकें। हांलाकि किसा भी तरह के स्वच्छ व्यापार से किसी को भी कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए। क्योंकि प्रत्येक व्यापार से कई घरों के चुल्हों की आग जुड़ी होती है। मीडिया उधोग भी उन्हीं में से एक है। लेकिन अधिक मुनाफा एंव टीआरपीकी दौडएंव स्वंय को न0 1 सिद्ध करने के लिए होने वाले समझौते घोर निराशजनक है। कथित स्टिंग ऑपरेशन एंव सनसनीखेज ख़बरें फैलाने के लिए किसी भी सीमा तक जाने एंव खबरों को अपने तरीकों से तोड़-मरोड़ कर तैयार कर दर्शकों तक पहुँचाने के लिए इलेक्ट्रानिक मीडिया पहले ही अपनी लक्ष्मण रेखा लांघकर स्वंय को कटघरें में खड़ा कर चुका है।


अखबारी पत्रकारिता में भी पेड न्यूज का जहरीला धंधा भी जोरो-शोरो से जारी है। कई बड़े अखबार जहां अपनी लोकप्रियता की पूरी कीमत वसूलने में लगे है। वहीं इस खेल में छोटे एवं क्षेत्रिय अखबार भी पीछे नहीं है। साल 2009 के लोकसभा चुनाव एंव उसके बाद हुए महाराष्ट्र के विधानसभा चुनाव में तो कई अखबारों पर अपनी विश्वसनीयता को भुनाने के लिए राजनीतिक दलों से उनकी रैलियों जुलूसों एंव भाषाण इत्यादि को कवर करने एवं उन दलों का अपने अखबारों द्वारा महिमामंडन करने के लिए पेड पॉलिटिकल पैकेज तक बेचने का आरोप है। इस बात की पुष्टी प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया ने भी की है। साथ में छोटें अखबारों का ये बयान कि हमारें पत्रकार जानते है कि उन्हें कैसे कमाना है। घोर निराश एंव पत्रकारिता जगत को शर्मिदा करने वाला है।


 मोटी होती मीडिया घरानों की बैलेंस शीट एंव पतला होता खबरों का स्तर इसी का परिणाम है। पत्रकारों एंव संपादको पर बढ़ता व्यवसायिक दबाव मीडिया में बढ़ते भ्रष्टाचार का घोतक है। वहीं टीआरपीटेलिविजन रैटिंग प्वाइंट का मापदंड अपने आप में कई सवाल खड़े करता है। मसलन एक निजी विज्ञापन सर्वे कम्पनी टैम (टेलिविजन आडियंस मैजरमेंट) द्वारा भारत के चन्द बडें शहरों में लगाए गए लगभग 8000 इलैक्ट्रोनिक मीटर पीप्लस मीटर कैसे भारत की लगभग 1 करोड 20 लाख जनता की रूचि को तय कर सकते हैक्या ये गणना अपने आप में कोई मायने रखती हैटीआरपीका मानक दिखाई जाने वाली खबरों का प्रभाव है या फिर उनकी एवज में विज्ञापनों से होने वाली कमाई जिसके लिए आज का मीडिया किसी भी स्तर तक की सौदेबाजी के लिए तैयार मालूम पड़ता हैजो उनकी कार्यशैली एंव विश्वसनियता पर कई प्रश्न खड़े कर उसके दीर्घकालीन जीवन पर प्रश्न चिह्र लगा उसे संकट में डाल सकता है।


 ऐसे अखबारों को न तो प्रेस परिषदएडिटर्स गिल्डऔर न ही बुद्धिजीवियों की चिंता है। और न ही मीडिया के लिए निर्धारित किसी कानून की। पिछले कुछ वर्षो में यह समस्या महामारी की तरहा फैली है। इसलिए कई जायज़-नाजायज़ धंधा करने वालो ने अपना अखबार या चैनल शुरू कर लिया है। जिसका मूल उद्देश्य उनके नाजायज़ धधों को सुरक्षा प्रदान करनासमाज एंव राजनीति के गलियारों में अपनी पैठ जमाना है। गौरतलब है कि ऐसे मीडिया घराने लोकतंत्र के लिए घातक सिद्ध हो सकते है।


अब आवश्यकता ऐसे मीडिया घरानों के सामाजिक बहिष्कार करने की है। जो अपनी ताकत का नाजायज़ फायदा उठाते है या फिर उठाने की कोशिश करते है। अच्छी एवं बुरी खबर को तय करने की जिम्मेदारी अब आम पाठक एंव दर्शक को लेनी होगी। जो की यह तय करे की एक सर्तक सजग एंव सक्रिय समाचार मीडिया कैसा होना चाहिए। ऐसा जिसने रूचिका गिरहोत्रा को भारत के हर घर की बेटी बना दिया या फिर ऐसा जो आये दिन आपको पाखंडी बाबा ,आत्मा, चुडैल एंव पुर्नजन्म की कहानी सुना-सुना कर अंधविश्वासी बनाने में विश्वास रखता है। क्योंकि एक शक्तिशाली एंव स्वतंत्र मीडिया ही हमारे समाज की दिशा एंव दशा निर्धारित करने में सहायक सिद्ध हो सकता है।

Comments

Popular posts from this blog

कादर खान- मुफ़्लिसी से मस्खरी के उस्ताद तक का सफ़र !

81 साल की उम्र में बॉलीवुड के हास्य अभिनेता एवं हिंदी फिल्मों के जाने माने अभिनेता कादर खान का निधन (Kadar Khan Died) हो गया। भारतीय फिल्मों (Indian Movies) के ज़्यादातर दर्शक कादर खान को उनके कॉमेडी वाले रोल्स के लिए जानते हैं। मगर असल मायनों में कादर खान का शुरूआती जीवन कितना संघर्ष भरा और दुखदायी रहा उसकी जानकारी शायद ही किसी को हों। मेरे इस ख़ास ब्लॉग में पढ़िए कादर खान की जिंदगी से जुड़े कुछ सच्चे किस्सों को...
कादर खान का परिवार मूलतः काबुल का रहनेवाला था। वे वहींएक मुस्लिम परिवार मेंजन्मे थें। उनके वालदैन बेहद ग़रीब थे। एक तरह से कहें तो खाने के लाले थे। कादर खान से पहले उनके तीन भाई और थे जो सभी आठ साल के होते-होते मर गए। जब कादर खान पैदा हुए, तब उनकी माँ का अपनी पिछली औलादों की मौत का डर फिर से उन्हें परेशान करने लगा। उन्हें लगा कि ये जगह उनके बेटे के लिए सही नहीं हैं। वे बेहद डरी हुई थीं ” उन्हें कुछ समझ नहीं आ रहा था कि वे कहाँ जाए। बहरहाल वे वहाँ से अपने पति के साथ निकल पड़ी और पता नहीं कैसेवेआजके मुंबई पहुँच गए। अनजाना मुल्क, अनजान शहर। न कोई जान-पहचान वाला न ही पास में एक धेला।

राखोश- भारत की पहली पीओवी तकनीक आधारित साइकोलॉजिकल थ्रिलर!

तकनीक के इस्तेमाल के मामले में वैसे तो भारतीय सिनेमा हॉलीवुड से अभी बहुत पीछे माना जाता है। लेकिन अब शायद वो दौर शुरू हो गया है जब भारतीय फ़िल्म निर्माता/निर्देशकों ने फ़िल्म निर्माण में कहानी और संगीत के अलावा इससे जुड़े अन्य पहलुओं पर भी गंभीरता से विचार करना शुरू कर दिया है।

शायद ये इसी का नतीजा है कि देश में पहली बार और विश्व सिनेमा के इतिहास में दूसरी बार पीओवी तकनीक का इस्तेमाल कर एक फ़िल्म का सफ़लतापूर्वक निर्माण किया गया है।



क्या है ये पीओवी तकनीक?

पीओवी का मतलब होता है (पॉइंट ऑफ़ व्यू- नज़रिया)। आपने अक्सर फ़िल्मों में किसी ख़ास किरदार के नज़रिए को लेकर फरमाए गए कुछ ख़ास सीन्स या डायलॉग देखे होंगे। लेकिन यदि एक पूरी की पूरी फ़िल्म ही किसी ख़ास क़िरदार के नज़रिए से बना दी जाए, तो क्या कहने!

दरअसल यहाँ सिर्फ़ ये बात ख़ास नहीं है कि एक किरदार विशेष को पूरी कहानी में तवज्जों दी गई है। बल्कि इस फ़िल्म की ख़ासियत ये है कि फ़िल्म का मुख्य कलाकार कोई और नहीं बल्कि फ़िल्म का कैमरा है। जो फ़िल्म के मुख्य किरदार का रोल निभाता है जिसके इर्द-गिर्द फ़िल्म की कहानी घूमती है।

दर्शक इस मुख्य किरदार को देख तो नहीं …

नई ई- कॉमर्स पॉलिसी- कहीं लेने के देने न पड़ जाएं !

डब्ल्यूटीओ के दबाव में भारत सरकार को भी अन्य देशों की तरह अपनी ई- कॉमर्स पॉलिसी लानी पड़ी है। हालाँकि भारत के खुदरा व्यापारियों के हितों के लिए नियम बनाने का वादा तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2014 लोकसभा चुनाव से पहले भी किया था। मगर जीत के बाद वो वादा भी अन्य चुनावी वादों की तरह ठंडे बस्ते में चला गया। जानकारी के अनुसार नई ई- कॉमर्स पॉलिसी1 फ़रवरी 2019 से लागू की जाएंगी।

वहीं फ़िलहाल जिस तरह का ड्राफ्ट भारत सरकार के द्वारा खुदरा व्यापारियों के हितों की रक्षा के लिए लाया जा रहा है वह कितना फायदेमंद होगा ये देखने वाली बात होगी। क्योंकि- इस ड्राफ्ट के नए नियमों के मुताबिक कोई भीविदेशी निवेश वाली(E-Commerce Policy) ई- कॉमर्स कंपनी उन प्रोडक्ट्स पर डिस्काउंट ऑफर नहीं ला पाएंगी जिनमें उनकी खुद की हिस्सेदारी या प्रबंधकीय हस्तक्षेप है। जैसे कि अमेज़न की अपनी डिलीवरी पार्टनर Cloud tail Indiaमें है। 


दरअसल केंद्र सरकार ने विदेशी निवेश वाली E-Commerce Companies के काम करने के नियमों पर नकेल तो साल 2018 के अंत से ही शुरू कर दी थी। जब उन्हें इस बात के लिए निर्देश दिए  गए थे कि अब वो इन्वेंटरी पर अप…