Skip to main content

कब ख़त्म होगा अयोध्या का वनवास?

वैसे तो आस्था इतिहास एवं कानून की जटिलताओं में दीर्घकाल से जकड़ी अयोघ्या नगरी के लिए 30 सितंबर 2010 का दिन स्वतंत्रता दिवस के समान साबित हो सकता था। इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने इस संवेदनशील मुद्दे पर अपना फैसला सुनाकर वह रोशनी दिखाने का प्रयास किया था, जो सम्पूर्ण राष्ट्र को अतीत के अन्धेरे से बाहर निकाल सकती थी। मालूम हो कि भारत के इतिहास में अयोध्या का यह मामला पिछले 500 – 600 वर्षो से धार्मिक विवादों में फंसा है एवं गत 67 वर्षो से न्यायालय में चल रहा है। देखा जाए तो यह समय अपने आप में राम के वनवास से भी काफी लम्बा है। साल 2010 से उच्चतम न्यायालय में लंबित पड़ा ये मामला एक बार फिर फ़रवरी 2016 में सुब्रमण्यम स्वामी के इस विवाद को लेकर काफी सक्रिय हो जाने के बाद  मीडिया की सुर्ख़ियों में आ गया था।

विदित है कि वर्ष 2010 में इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने भारतीयं जनता को अपने निर्णय के द्वारा विवादित जमीन का एक तिहाई हिस्सा निर्मोही अखाड़ा समिति को, एक तिहाई हिस्सा राम लल्ला विराजमान अर्थात भगवान राम की मूर्ति के लिए तथा एक तिहाई हिस्सा सुन्नी वक़्फ बोर्ड को देने का निर्णय किया था। न्यायालय के निर्णय द्वारा जमीन का बटंवारा होता या नहीं परन्तु भारत को जोड़ने का एक सुनहरा अवसर अवश्य ही प्राप्त हो जाता। अर्थात यदि दोनों मुख्य पक्ष चाहते तो भारत अपने आपको 6 दिसंबर 1992 के बाद सही मायने में बदल सकता था और अपनी गंगा-जमुनी संस्कृति का जीवंत संदेश पूरे विश्व को विवादित स्थल पर मंदिर एवं मस्जिद एक साथ बनवा कर दे सकते हैं। मथुरा एवं बनारस में इसका शानदार उदाहरण देखा जा सकता हैं जहां मंदिर एवं मस्जिद साथ-साथ हैं। इन स्थानों में आरती एवं अज़ान भी एक ही समय में होती है। बाबरी मस्जिद के वर्तमान पक्षकार इकबाल अंसारी (स्वर्गीय हाशिम अंसारी के पुत्र) का भी कहना है कि विवादित ज़मीन में राम मंदिर और मस्जिद का निर्माण किया जा सकता है इलाहाबाद हाईकोर्ट ने भी इसी आधार पर फैसला सुनाया था इस मामले में नए राजनीतिक विवाद पैदा करने की कोशिशें एक बड़ी भूल साबित होगी
मगर दुर्भाग्यवश ये विवाद 60 वर्षो बाद आये इस संतुलित एवं स्वागतयोग्य निर्णय के बाद पुनः सर्वोच्च न्यायालय जा पहुंचा जहां इसके पुनः सात वर्ष होने वाले है और अगर ये विवाद अब भी आपसी बातचीत से नहीं हल हुआ तो भविष्य में उच्चतम न्यायालय का क्या निर्णय एवं किसके पक्ष में आयेगा?  जैसी बातों की दुविधा में ना जाने कितनी सदियां और लगे, इसकी भविष्यवाणी दोनों में से कोई भी पक्ष भी नहीं कर सकता। इस विवाद का हल अंतत: बातचीत से ही संभव मालूम पड़ता है। यानि दोनों पक्षों की आपसी सहमति एवं समझदारी द्वारा ही संभव हो सकता हैं इसलिए इस विवाद को भविष्य के कंधो पर लादना भावी पीढ़ी के साथ अन्याय एवं भविष्य की भारी भूल सिद्ध हो सकती है। जो की विश्व के साथ कदमताल मिलाकर दौड़ने को तैयार है।

गौरतलब है कि हाईकोर्ट के निर्णय ने विवादित जमीन को 2:1 के हिसाब से विभाजित किया था। जिसमें मस्जिद पक्ष के सर्मथकों को आंशिक रूप से निराशा हाथ लगी थी, ऐसा मुस्लिम पक्ष के कुछ लोगों का मानना है। कुछ हिन्दु संगठन भी उच्च न्यायालय के निर्णय से संतुष्ट मालूम नहीं पड़ते थे,  जिसके लिए दोनों ही पक्षों के पास अपने-अपने कई कारण एवं तर्क हो सकते हैं मगर क्या वो सभी कारण एवं तर्क देश की एकता एवं अखंडता को बचाए रखने तथा देश को राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर में मजबूती प्रदान करने से ज्यादा शक्तिशाली हो सकते हैं ? क्योंकि आज का भारत 1992 का भारत नहीं है। आज के युवा जानते हैं कि उसे गुणवत्तापूर्ण शिक्षा एवं अच्छे स्वास्थ्य की आवश्यकता मंदिर एवं मस्जिद से कहीं ज्यादा है। लेकिन उसके लिए स्कूल कॉलेज एवं अस्पतालों की संख्या दुर्भाग्यवश मंदिर एवं मस्जिद की तुलना में काफी न्यूनतम संख्या में हैं, जिसके लिए शायद ही किसी राजनीतिक दल या फिर किसी धर्म विशेष ने कभी कोई आंदोलन किया हो। आज मसला ये नहीं कि किस पक्ष की हार होगी और किसकी जीत।  बल्कि ये देखना ज्यादा महत्वपूर्ण होगा कि भारत हारा या जीता। इस अतिसंवेदनशील मसलें पर पूरे विश्व की नजरें हमारे देश पर लगी हुई हैं जो की भारत के भविष्य के लिए कई मायनों में महत्वपूर्ण साबित हो सकती है।
शायद इस वजह से ही 31 मार्च 2017 को उच्चतम न्यायालय ने भी इस मामले की सुनवाई करते हुए सुब्रमण्यम स्वामी को पक्षकार मानने से इनकार कर दिया है माननीय उच्चतम न्यायालय इस मामले में जल्द सुनवाई संभव नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने आगे कहा कि इस मामले में दोनों पक्षकारों को और समय देने की जरुरत है
इस पूरे विषय में दोनों पक्षों के लोगों के अलावा अन्य धार्मिक एवं सामाजिक संगठनों और मीडिया की संतुलित एवं सकारात्मक रिर्पोटिंग भी अपेक्षित हैं। भारत में मर्यादापुरूषोतम के नाम पर मर्यादा का उल्लंघन हो, भारत का किसान आत्महत्या करें और हम मंदिर-मस्जिद के लिए झगड़ते रहे ये बात स्वयं राम को भी बुरी लगेगी। अब देश को इस पर विचार करना ही होगा ताकि इस वर्ष दीपावली में जब भगवान श्रीराम अयोध्या लौटे तो उनके वनवास के साथ-साथ अयोध्या को भी उसके वनवास से मुक्ति मिल चुका हो।
विवाद – राजनीति = समाधान



#हिंदी_ब्लोगिंग 


Comments

Popular posts from this blog

राखोश- भारत की पहली पीओवी तकनीक आधारित साइकोलॉजिकल थ्रिलर!

तकनीक के इस्तेमाल के मामले में वैसे तो भारतीय सिनेमा हॉलीवुड से अभी बहुत पीछे माना जाता है। लेकिन अब शायद वो दौर शुरू हो गया है जब भारतीय फ़िल्म निर्माता/निर्देशकों ने फ़िल्म निर्माण में कहानी और संगीत के अलावा इससे जुड़े अन्य पहलुओं पर भी गंभीरता से विचार करना शुरू कर दिया है।

शायद ये इसी का नतीजा है कि देश में पहली बार और विश्व सिनेमा के इतिहास में दूसरी बार पीओवी तकनीक का इस्तेमाल कर एक फ़िल्म का सफ़लतापूर्वक निर्माण किया गया है।



क्या है ये पीओवी तकनीक?

पीओवी का मतलब होता है (पॉइंट ऑफ़ व्यू- नज़रिया)। आपने अक्सर फ़िल्मों में किसी ख़ास किरदार के नज़रिए को लेकर फरमाए गए कुछ ख़ास सीन्स या डायलॉग देखे होंगे। लेकिन यदि एक पूरी की पूरी फ़िल्म ही किसी ख़ास क़िरदार के नज़रिए से बना दी जाए, तो क्या कहने!

दरअसल यहाँ सिर्फ़ ये बात ख़ास नहीं है कि एक किरदार विशेष को पूरी कहानी में तवज्जों दी गई है। बल्कि इस फ़िल्म की ख़ासियत ये है कि फ़िल्म का मुख्य कलाकार कोई और नहीं बल्कि फ़िल्म का कैमरा है। जो फ़िल्म के मुख्य किरदार का रोल निभाता है जिसके इर्द-गिर्द फ़िल्म की कहानी घूमती है।

दर्शक इस मुख्य किरदार को देख तो नहीं …

...इसलिए भारत ही नहीं वैश्विक अर्थव्यवस्था पर छा रहें हैं मंदी के बादल !

भारतीय अर्थव्यवस्था की चाल पिछले कुछ महीनों से स्पष्ट रूप से आने वाली मंदी के संकेत दे रही है। हालांकि अर्थव्यवस्था के जानकारों को ये दबाव एक के बाद एक किये गए नोटबंदी और जीएसटी के प्रयोग के तुरंत बाद से ही समझ आने लगा था। मगर केंद्र सरकार के अड़ियल रवैये के कारण इसका कोई ठोस हल नहीं निकल पाया। मेरे अपने शहर जमशेदपुर जहां एशिया की सबसे विशाल(Adityapur IndustrialAreaDevelopment Authority - AIADA Jharkhand India). में स्थित 1100 छोटी-बड़ी फैक्टरियां इस मंदी की शुरूआती भेंट चढ़ चुकी हैं
कारण टाटा मोटर्स का अपना उत्पाद घटाया जाना। जिनके लिए ये सभी फैक्टरियां विभिन्न प्रकार के ऑटो पार्ट्स बनाती थी। आप खुद अंदाज़ा लगा सकते हैं कि कितने लोग बेरोज़गार हुए होंगे कितने परिवारों की रोज़ी-रोटी का संकट आन खड़ा हुआ होगा। मगर दुर्भाग्य से ये संकट शायद जल्द न टल पाए क्योंकि डगमगाती भारतीय अर्थव्यवस्था के बाद अब जर्मनी और चीन जैसी बड़ी आर्थिक शक्तियों ने भी बुरे संकेत देने शुरू कर दिए हैं पूरी ख़बर नीचे पढ़ें...

जीएसटी और नोटबंदी के प्रयोग से चरमराई भारतीय अर्थव्यवस्था एवं भारतीय बाज़ार में तेज़ी से ख़राब हो रही ऑटो…

अल्लाह के नाम पर या मुल्ला के नाम पर ?

ज़ायरा वसीम जब फिल्मों में आयी थी तो ये उसकी मर्ज़ी थी। अब अगर वो फिल्मों में काम नहीं करना चाहती तो उसके फैसले का सम्मान होना चाहिए, न कि उसके फैसले पर स्टुडियो वाली अधकच्ची जानकारी के आधार पर मुर्गा लड़ाई आयोजित कर टीआरपी बढ़ाने का बेशर्म काम किया जाना चाहिए।

हालांकि अगर हम अपने आस-पास झांके तो हमें आपने आस-पास अल्लाह के ऐसें हज़ारों बंदे मिल जाएंगे जो दिनभर, 5 वक़्त की नमाज़ में अल्लाह से उनके लिए एक बार बॉलीवुड के रास्ते खोल देने की दुआ करते रहते हैं।



जबकि ज़ायरा वसीम की गलती ये  है कि वो बॉलीवुड को छोड़ने को लेकर कोई तर्कसंगत ठोस जवाब नहीं दें पायी जिससे कि उसके इस निजी फैसले पर कोई सवाल न उठे। दरअसल सही मायने में तो उसे किसी तरह का जवाब या सफाई देने की ज़रूरत थी भी नहीं।  कि, वो अपनी जिंदगी में आगे क्या करना चाहती है। लेकिन शायद ज़ायरा ने उम्र और तजुर्बे के कच्चेपन में ये एक चाही-अनचाही गलती कर दी।

उसने जिस तरह से अपने फैसले को धर्म, मज़हब से प्रभावित होकर लेने की बात कही वो बात कईयों के गले नहीं उतर रही। क्योंकि, बॉलीवुड में आजतक अगर किसी धर्म-जात या मज़हब के लोगों का राज रहा है तो उसमें प…