Skip to main content

ना भागते तो सालों पहले पुलिस एनकाउंटर में मारे जाते गुरुंग चक्रबर्ती

हैप्पी बर्थडे मिथुन दा 


आज गुरुंग चक्रबर्ती यानि मिथुन चक्रबर्ती का जन्मदिन है. मगर कम की लोगों को पता होगा की अगर वक़्त रहते वो अपना रास्ता न बदलते तो न ही वो हीरो बन पाते न ही आज जिंदा होते. दरअसल मिथुन चक्रबर्ती फ़िल्मी दुनिया में आने से पहले एक नक्सली थे जिनके पीछे हर वक़्त पुलिस लगी रहती थी. उनके बड़े भाई भी नक्सली थे जिनकी पुलिस एनकाउंटर में मौत के बाद मिथुन चक्रबर्ती को मजबूरन बंगाल से भाग कर पुणे आन पड़ा. नहीं तो उनका भी एनकाउंटर हो जाता जिसके शायद आर्डर  भी जारी किए जा चुके थे.  पुणे से ही मिथुन चक्रबर्ती का नया सफ़र शुरू हुआ.

पत्रकार से कहा पहले खाना खिलाओं- 


लम्बे संघर्ष के बाद मिथुन चक्रबर्ती को एक फिल्म में ठीक-ठाक काम तो मिला मगर कोई खास फायदा नहीं हुआ. फिल्म के हिट हो जाने के बाद भी मिथुन की कोई पहचान नहीं बनी. वे बिना खाए-पिये महीनों पुणे की  सड़कों पर यूँ ही भटकते रहे . बाद में एक दिन अचानक  किसी फ़िल्मी पत्रकार ने उन्हें सड़क किनारे घूमते हुए पहचान लिया. मिथुन ने पहले तो उस पत्रकार को न कह दिया, बाद में जोरो की भूख और पॉकेट में एक ढेला भी नहीं होने की मज़बूरी में मिथुन उनसे बात करने को राज़ी हुए वो भी इस शर्त पर की वो पत्रकार उन्हें आज खाना खिलाएग. पत्रकार भी इस शर्त के लिए इसलिए राज़ी हो गया क्योंकी उसे अपने अखबार के लिए एक अच्छी स्टोरी जो मिलने जा रही थी.


ऊटी में अपने डूबते होटल बिज़नस को बनाया फायदे का सौदा-


फिल्मों में अच्छी तरह करियर बनाने के बाद मिथुन चक्रबर्ती ने होटल बिज़नस में अपने पैर रखे और तमिलनाडु के खुबसूरत स्थान से होटल का व्यापार शुरू किया. मगर लम्बे समय तक उन्हें इस व्यापार में कोई खास सफलता नहीं मिली जबकि वहां अक्सर कई हिंदी और प्रादेशिक भाषाओँ की फिल्मों की शूटिंग होती थी. मिथुन ने इस दौरान शूटिंग क्रू को सही जगह और इक्विपमेंट की परेशानियों से जूझते देखा. दरअसल हर शूटिंग क्रू को अपने भारी भरकम इक्विपमेंट्स दूर -दूर से ढोकर लाने होते थे जिससे फिल्म बनाने का खर्चा तो बढ़ ही जाता था साथ ही इक्विपमेंट्स के टूटने आदि का डर भी हमेशा बना रहता था .

निकला कमाई का नायब ज़रिया- 


फ़िल्मी दुनिया के अपने साथियों की इस परेशानियों को जान-समझ कर मिथुन चक्रबर्ती ने एक आईडिया सोचा. उन्होंने अपने होटल को शूटिंग के लायक बनाने का निर्णय लिया इसके लिए  उन्होंने अपने होटल में  ऐसे कुछ बदलाव  किए ताकि वो फिल्मों की शूटिंग के लायक एक आदर्श जगह बन जाए. साथ ही उन्होंने कई तरह के शूटिंग इक्विपमेंट्स को भी खरीद कर परमानेंट वहीं रख दिया ताकि शूटिंग के लिए किसी भी क्रू को बाहर से सामान ढोकर न लाना पड़े. इससे जहां  उनके होटल की अच्छी कमाई शुरू हो गयी वहीँ शूटिंग के लिए आने वाले प्रोडक्शन हाउसेस को भी कई तरह के फायदे मिले.  

#हिंदी_ब्लोगिंग 

Comments

Popular posts from this blog

कादर खान- मुफ़्लिसी से मस्खरी के उस्ताद तक का सफ़र !

81 साल की उम्र में बॉलीवुड के हास्य अभिनेता एवं हिंदी फिल्मों के जाने माने अभिनेता कादर खान का निधन (Kadar Khan Died) हो गया। भारतीय फिल्मों (Indian Movies) के ज़्यादातर दर्शक कादर खान को उनके कॉमेडी वाले रोल्स के लिए जानते हैं। मगर असल मायनों में कादर खान का शुरूआती जीवन कितना संघर्ष भरा और दुखदायी रहा उसकी जानकारी शायद ही किसी को हों। मेरे इस ख़ास ब्लॉग में पढ़िए कादर खान की जिंदगी से जुड़े कुछ सच्चे किस्सों को...
कादर खान का परिवार मूलतः काबुल का रहनेवाला था। वे वहींएक मुस्लिम परिवार मेंजन्मे थें। उनके वालदैन बेहद ग़रीब थे। एक तरह से कहें तो खाने के लाले थे। कादर खान से पहले उनके तीन भाई और थे जो सभी आठ साल के होते-होते मर गए। जब कादर खान पैदा हुए, तब उनकी माँ का अपनी पिछली औलादों की मौत का डर फिर से उन्हें परेशान करने लगा। उन्हें लगा कि ये जगह उनके बेटे के लिए सही नहीं हैं। वे बेहद डरी हुई थीं ” उन्हें कुछ समझ नहीं आ रहा था कि वे कहाँ जाए। बहरहाल वे वहाँ से अपने पति के साथ निकल पड़ी और पता नहीं कैसेवेआजके मुंबई पहुँच गए। अनजाना मुल्क, अनजान शहर। न कोई जान-पहचान वाला न ही पास में एक धेला।

! तू जब बिछड़ेगी !

!! तू जब बिछड़ेगी तो कयामत होगी कम फ़िर भी न किसी क़ीमत पर मेरी चाहता होगी !!
!! तेरी बातों को यादकर हसेंगे-रोयेंगे संग तेरे बिता हर लम्हा मेरी ताउम्र की दौलत होगी !!
!! रख लेना मुझे याद किसी बुरी याद की तरह फिर भी न कभी तुझसे कोई शिकायत होगी !!


!! लौट आने की तेरे दुआ हम रोज़ पढ़ेंगे न जाने किस घड़ी ख़ुदा की हमपर रहमत होगी !!
!! तेरी तस्वीरों से सजाऊंगा अपने घर की दीवारें हर घड़ी मेरे अंजुमन में तेरी ही महक होगी !!
!! तू जब बिछड़ेगी तो क़यामत होगी कम फ़िर भी न किसी क़ीमत पर मेरी चाहता होगी !!

राखोश- भारत की पहली पीओवी तकनीक आधारित साइकोलॉजिकल थ्रिलर!

तकनीक के इस्तेमाल के मामले में वैसे तो भारतीय सिनेमा हॉलीवुड से अभी बहुत पीछे माना जाता है। लेकिन अब शायद वो दौर शुरू हो गया है जब भारतीय फ़िल्म निर्माता/निर्देशकों ने फ़िल्म निर्माण में कहानी और संगीत के अलावा इससे जुड़े अन्य पहलुओं पर भी गंभीरता से विचार करना शुरू कर दिया है।

शायद ये इसी का नतीजा है कि देश में पहली बार और विश्व सिनेमा के इतिहास में दूसरी बार पीओवी तकनीक का इस्तेमाल कर एक फ़िल्म का सफ़लतापूर्वक निर्माण किया गया है।



क्या है ये पीओवी तकनीक?

पीओवी का मतलब होता है (पॉइंट ऑफ़ व्यू- नज़रिया)। आपने अक्सर फ़िल्मों में किसी ख़ास किरदार के नज़रिए को लेकर फरमाए गए कुछ ख़ास सीन्स या डायलॉग देखे होंगे। लेकिन यदि एक पूरी की पूरी फ़िल्म ही किसी ख़ास क़िरदार के नज़रिए से बना दी जाए, तो क्या कहने!

दरअसल यहाँ सिर्फ़ ये बात ख़ास नहीं है कि एक किरदार विशेष को पूरी कहानी में तवज्जों दी गई है। बल्कि इस फ़िल्म की ख़ासियत ये है कि फ़िल्म का मुख्य कलाकार कोई और नहीं बल्कि फ़िल्म का कैमरा है। जो फ़िल्म के मुख्य किरदार का रोल निभाता है जिसके इर्द-गिर्द फ़िल्म की कहानी घूमती है।

दर्शक इस मुख्य किरदार को देख तो नहीं …