Skip to main content

यो छोरियां के छोरों से कम सै?



                           !! गर देखना है मेरी उड़ान को
तो जरा और ऊँचा करलो आसमान को !!

भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान मिताली राज ने एक दिवसीय क्रिकेट मैच की दुनिया में पुराने सभी रिकार्ड्स को ध्वस्त कर एक नया कीर्तिमान स्थापित कर दियामगर जिस देश में क्रिकेट को धर्म माना जाता है वहां क्रिकेट के पुजारी, पंडे, भक्तों में मुझे वैसा उत्साह, वैसी ख़ुशी खोजे नहीं मिल रही जैसी हमारे पुरुष क्रिकेट के खिलाड़ी देवताओं के प्रति देखने को मिलती है

क्या कारण हो सकता है इस भेद-भाव का, ऐसी अनदेखी, सुस्ती का? शायद महिला क्रिकेट से होने वाली कमाई इसका स्टारडम ही एक मुख्य वजह है कि ज़्यादातर क्रिकेट प्रेमी जो किसी भी मैच के लिए ऑफिस-कॉलेज नागा कर लेते है, अपने व्यापार की हानि बर्दाश्त कर लेते है, ब्लैक में भी टिकट्स खरीद लेते है और रात-रात भर स्टेडियम के बाहर लाइन में एक अदद टिकट के लिए पागलों की तरह खड़े रहते है उन्हें महिला क्रिकेट में या यू कहें कि भारतीय पुरुष क्रिकेट टीम को छोड़कर किसी भी अन्य खेल में वो चमक नहीं दिखती जिसके वो दीवाने है फिर बात भले महिला क्रिकेट की हो या फिर कब्बड्डी और हॉकी की हर जगह वस्तुस्थिति कमोवेश एक सी ही है और इन सब के पीछे जो मुख्य वजह है वो है बाकी खेल एवं खिलाडियों का सही तरीके से प्रचार नहीं हो पाना जिसके लिए सरकार, खेल मंत्रालय, विभिन्न खेल एवं खिलाड़ी संघ एवं हर वो खेल प्रेमी जिम्मेवार है जो भारत में खेल का मतलब सिर्फ क्रिकेट और सिर्फ सचिन, धोनी,कोहली वाला क्रिकेट ही समझता है


कभी पूछकर देखिए कईयों को तो बाकी खेल के नियम खिलाड़ियों के नाम उनकी पहचान भी नहीं होगी सही से मगर सचिन और कोहली के बीवी-बच्चे एवं कुत्ते का भी नाम पता होगा ताज़ा मामला ही देखिए जब ६००० रन बनाने की मुबारकबाद में भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने अपने ट्विटर पोस्ट में मिताली की जगह किसी अन्य खिलाड़ी की फोटो पोस्ट कर मिताली राज को उनकी सफलती की वधाई दे डालीबाद में किसी फोलोवर द्वारा कोहली को उनकी गलती बताए जाने के बाद उन्होंने पोस्ट डिलीट कर दी वहीँ बात अगर मिताली राज के करियर की करें तो हम में से बहुत कम लोग ही ये जानते होंगे की मिताली ने अपने पहले मैच में ही साल 1999 जून के महीनें में आयरलैंड के खिलाफ 114 रनों की सफल पारी में शानदार शतक जड़ खुद को साबित कर दिया था साथ ही मिताली के नाम टेस्ट मैच में बनाई गई एक डबल सेंचुरी भी दर्ज है. और अब एक दिवसीय महिला क्रिकेट मैच की दुनिया में 6000 रन बनाने का शानदार रिकॉर्ड


ऐसे में अगर अपने लम्बे करियर में बतौर कप्तान मिताली की सालाना फीस की करे तो वो है मात्र 15 लाख रूपये सालाना जबकि बात अगर कप्तान कोहली की सालाना फीस की करे तो वो मिताली को मिलने वाली फीस से कई गुना अधिक 2 करोड़ रूपये सालाना है यानि की भेद-भाव, लापरवाही की एक नहीं कई मजबूत दीवारें है खेल-कूद की दुनिया में भी जहां क्रिकेट को धर्म माना जाता है दरअसल वहां क्रिकेट नहीं क्रिकेट का बस वो हिस्सा ही धर्म है जिसपर दांव लगाया जाता है करोड़ो-अरबों का सट्टा खेला जाता है वो क्रिकेट जिसकी चकचौंध में खिलाड़ी से लेकर खेल प्रेमी तक और अपने ब्रांड्स प्रोडक्ट्स के प्रायोजक से लेकर हर कोई अँधेरेगर्दी में इतना डूब चूका है की उन सबको वही दिखता है जो बिकता है या वही बिकता है जो वो दिखाते है

हालाँकि अब कुछ शुभ संकेत भी मिलने शुरू हो गए है भारतीय मीडिया अब इस भेद-भाव को समझने लग गया है हमारे मीडिया का एक हिस्सा अब क्रिकेट के अलावा महिला क्रिकेट एवं बाकी अन्य खेल –खिलाडियों के प्रति संवेदनशील हो रहा है आप भी जागिए अगली बार जब मिताली राज या सरदार सिंह की हॉकी टीम कोई नया खिताब जीते तो ढोल और तिरंगे के साथ उनका भी पूरी गर्मजोशी से स्वागत कीजिये, जश्न मनाइए क्योंकि हमें जितने पर खुश होना चाहिए न की सिर्फ तब जब भारतीय क्रिकेट टीम के ही जीते बल्कि हर बार जब इस देश का कोई खिलाड़ी फिर वो चाहे पुरुष हो या महिला अपने खेल से, अपनी मेहनत और हुनर से देश का नाम रौशन करे तब हमारा मकसद जीत होना चाहिए उसकी ख़ुशी होनी चाहिए फिर खेल चाहे कोई भी हो उससे देश का नाम रौशन करने वाला फिर भले भारत माँ का कोई लाल हो या फिर लाडली बेटियाँ  


#हिंदी_ब्लोगिंग 

Comments

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपने बहुत अच्छा लिखा हैं, इस सच्चाई का सबको पता होना चाहिए कि क्रिकेट महिला कप्तान को **15लाख** सालाना और पुरुष क्रिकेट कप्तान को 2करोड़ सालाना मिलता हैं। हमारा राष्ट्रीय खेल हॉकी हैं उसे भी इतनी पॉपुलैरिटी नही मिली हैं,ठीक हैं सबकी अपनी पसंद होती हैं लेकिन अन्य खेलों को भी प्रसिद्धि दिलवाने के लिए कोई ना कोई कदम तो उठाना ही चाहिए।

      Delete
  2. जी शुक्रिया नीतू जी

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

राखोश- भारत की पहली पीओवी तकनीक आधारित साइकोलॉजिकल थ्रिलर!

तकनीक के इस्तेमाल के मामले में वैसे तो भारतीय सिनेमा हॉलीवुड से अभी बहुत पीछे माना जाता है। लेकिन अब शायद वो दौर शुरू हो गया है जब भारतीय फ़िल्म निर्माता/निर्देशकों ने फ़िल्म निर्माण में कहानी और संगीत के अलावा इससे जुड़े अन्य पहलुओं पर भी गंभीरता से विचार करना शुरू कर दिया है।

शायद ये इसी का नतीजा है कि देश में पहली बार और विश्व सिनेमा के इतिहास में दूसरी बार पीओवी तकनीक का इस्तेमाल कर एक फ़िल्म का सफ़लतापूर्वक निर्माण किया गया है।



क्या है ये पीओवी तकनीक?

पीओवी का मतलब होता है (पॉइंट ऑफ़ व्यू- नज़रिया)। आपने अक्सर फ़िल्मों में किसी ख़ास किरदार के नज़रिए को लेकर फरमाए गए कुछ ख़ास सीन्स या डायलॉग देखे होंगे। लेकिन यदि एक पूरी की पूरी फ़िल्म ही किसी ख़ास क़िरदार के नज़रिए से बना दी जाए, तो क्या कहने!

दरअसल यहाँ सिर्फ़ ये बात ख़ास नहीं है कि एक किरदार विशेष को पूरी कहानी में तवज्जों दी गई है। बल्कि इस फ़िल्म की ख़ासियत ये है कि फ़िल्म का मुख्य कलाकार कोई और नहीं बल्कि फ़िल्म का कैमरा है। जो फ़िल्म के मुख्य किरदार का रोल निभाता है जिसके इर्द-गिर्द फ़िल्म की कहानी घूमती है।

दर्शक इस मुख्य किरदार को देख तो नहीं …

...इसलिए भारत ही नहीं वैश्विक अर्थव्यवस्था पर छा रहें हैं मंदी के बादल !

भारतीय अर्थव्यवस्था की चाल पिछले कुछ महीनों से स्पष्ट रूप से आने वाली मंदी के संकेत दे रही है। हालांकि अर्थव्यवस्था के जानकारों को ये दबाव एक के बाद एक किये गए नोटबंदी और जीएसटी के प्रयोग के तुरंत बाद से ही समझ आने लगा था। मगर केंद्र सरकार के अड़ियल रवैये के कारण इसका कोई ठोस हल नहीं निकल पाया। मेरे अपने शहर जमशेदपुर जहां एशिया की सबसे विशाल(Adityapur IndustrialAreaDevelopment Authority - AIADA Jharkhand India). में स्थित 1100 छोटी-बड़ी फैक्टरियां इस मंदी की शुरूआती भेंट चढ़ चुकी हैं
कारण टाटा मोटर्स का अपना उत्पाद घटाया जाना। जिनके लिए ये सभी फैक्टरियां विभिन्न प्रकार के ऑटो पार्ट्स बनाती थी। आप खुद अंदाज़ा लगा सकते हैं कि कितने लोग बेरोज़गार हुए होंगे कितने परिवारों की रोज़ी-रोटी का संकट आन खड़ा हुआ होगा। मगर दुर्भाग्य से ये संकट शायद जल्द न टल पाए क्योंकि डगमगाती भारतीय अर्थव्यवस्था के बाद अब जर्मनी और चीन जैसी बड़ी आर्थिक शक्तियों ने भी बुरे संकेत देने शुरू कर दिए हैं पूरी ख़बर नीचे पढ़ें...

जीएसटी और नोटबंदी के प्रयोग से चरमराई भारतीय अर्थव्यवस्था एवं भारतीय बाज़ार में तेज़ी से ख़राब हो रही ऑटो…

अल्लाह के नाम पर या मुल्ला के नाम पर ?

ज़ायरा वसीम जब फिल्मों में आयी थी तो ये उसकी मर्ज़ी थी। अब अगर वो फिल्मों में काम नहीं करना चाहती तो उसके फैसले का सम्मान होना चाहिए, न कि उसके फैसले पर स्टुडियो वाली अधकच्ची जानकारी के आधार पर मुर्गा लड़ाई आयोजित कर टीआरपी बढ़ाने का बेशर्म काम किया जाना चाहिए।

हालांकि अगर हम अपने आस-पास झांके तो हमें आपने आस-पास अल्लाह के ऐसें हज़ारों बंदे मिल जाएंगे जो दिनभर, 5 वक़्त की नमाज़ में अल्लाह से उनके लिए एक बार बॉलीवुड के रास्ते खोल देने की दुआ करते रहते हैं।



जबकि ज़ायरा वसीम की गलती ये  है कि वो बॉलीवुड को छोड़ने को लेकर कोई तर्कसंगत ठोस जवाब नहीं दें पायी जिससे कि उसके इस निजी फैसले पर कोई सवाल न उठे। दरअसल सही मायने में तो उसे किसी तरह का जवाब या सफाई देने की ज़रूरत थी भी नहीं।  कि, वो अपनी जिंदगी में आगे क्या करना चाहती है। लेकिन शायद ज़ायरा ने उम्र और तजुर्बे के कच्चेपन में ये एक चाही-अनचाही गलती कर दी।

उसने जिस तरह से अपने फैसले को धर्म, मज़हब से प्रभावित होकर लेने की बात कही वो बात कईयों के गले नहीं उतर रही। क्योंकि, बॉलीवुड में आजतक अगर किसी धर्म-जात या मज़हब के लोगों का राज रहा है तो उसमें प…