सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

यो छोरियां के छोरों से कम सै?



                           !! गर देखना है मेरी उड़ान को
तो जरा और ऊँचा करलो आसमान को !!

भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान मिताली राज ने एक दिवसीय क्रिकेट मैच की दुनिया में पुराने सभी रिकार्ड्स को ध्वस्त कर एक नया कीर्तिमान स्थापित कर दियामगर जिस देश में क्रिकेट को धर्म माना जाता है वहां क्रिकेट के पुजारी, पंडे, भक्तों में मुझे वैसा उत्साह, वैसी ख़ुशी खोजे नहीं मिल रही जैसी हमारे पुरुष क्रिकेट के खिलाड़ी देवताओं के प्रति देखने को मिलती है

क्या कारण हो सकता है इस भेद-भाव का, ऐसी अनदेखी, सुस्ती का? शायद महिला क्रिकेट से होने वाली कमाई इसका स्टारडम ही एक मुख्य वजह है कि ज़्यादातर क्रिकेट प्रेमी जो किसी भी मैच के लिए ऑफिस-कॉलेज नागा कर लेते है, अपने व्यापार की हानि बर्दाश्त कर लेते है, ब्लैक में भी टिकट्स खरीद लेते है और रात-रात भर स्टेडियम के बाहर लाइन में एक अदद टिकट के लिए पागलों की तरह खड़े रहते है उन्हें महिला क्रिकेट में या यू कहें कि भारतीय पुरुष क्रिकेट टीम को छोड़कर किसी भी अन्य खेल में वो चमक नहीं दिखती जिसके वो दीवाने है फिर बात भले महिला क्रिकेट की हो या फिर कब्बड्डी और हॉकी की हर जगह वस्तुस्थिति कमोवेश एक सी ही है और इन सब के पीछे जो मुख्य वजह है वो है बाकी खेल एवं खिलाडियों का सही तरीके से प्रचार नहीं हो पाना जिसके लिए सरकार, खेल मंत्रालय, विभिन्न खेल एवं खिलाड़ी संघ एवं हर वो खेल प्रेमी जिम्मेवार है जो भारत में खेल का मतलब सिर्फ क्रिकेट और सिर्फ सचिन, धोनी,कोहली वाला क्रिकेट ही समझता है


कभी पूछकर देखिए कईयों को तो बाकी खेल के नियम खिलाड़ियों के नाम उनकी पहचान भी नहीं होगी सही से मगर सचिन और कोहली के बीवी-बच्चे एवं कुत्ते का भी नाम पता होगा ताज़ा मामला ही देखिए जब ६००० रन बनाने की मुबारकबाद में भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने अपने ट्विटर पोस्ट में मिताली की जगह किसी अन्य खिलाड़ी की फोटो पोस्ट कर मिताली राज को उनकी सफलती की वधाई दे डालीबाद में किसी फोलोवर द्वारा कोहली को उनकी गलती बताए जाने के बाद उन्होंने पोस्ट डिलीट कर दी वहीँ बात अगर मिताली राज के करियर की करें तो हम में से बहुत कम लोग ही ये जानते होंगे की मिताली ने अपने पहले मैच में ही साल 1999 जून के महीनें में आयरलैंड के खिलाफ 114 रनों की सफल पारी में शानदार शतक जड़ खुद को साबित कर दिया था साथ ही मिताली के नाम टेस्ट मैच में बनाई गई एक डबल सेंचुरी भी दर्ज है. और अब एक दिवसीय महिला क्रिकेट मैच की दुनिया में 6000 रन बनाने का शानदार रिकॉर्ड


ऐसे में अगर अपने लम्बे करियर में बतौर कप्तान मिताली की सालाना फीस की करे तो वो है मात्र 15 लाख रूपये सालाना जबकि बात अगर कप्तान कोहली की सालाना फीस की करे तो वो मिताली को मिलने वाली फीस से कई गुना अधिक 2 करोड़ रूपये सालाना है यानि की भेद-भाव, लापरवाही की एक नहीं कई मजबूत दीवारें है खेल-कूद की दुनिया में भी जहां क्रिकेट को धर्म माना जाता है दरअसल वहां क्रिकेट नहीं क्रिकेट का बस वो हिस्सा ही धर्म है जिसपर दांव लगाया जाता है करोड़ो-अरबों का सट्टा खेला जाता है वो क्रिकेट जिसकी चकचौंध में खिलाड़ी से लेकर खेल प्रेमी तक और अपने ब्रांड्स प्रोडक्ट्स के प्रायोजक से लेकर हर कोई अँधेरेगर्दी में इतना डूब चूका है की उन सबको वही दिखता है जो बिकता है या वही बिकता है जो वो दिखाते है

हालाँकि अब कुछ शुभ संकेत भी मिलने शुरू हो गए है भारतीय मीडिया अब इस भेद-भाव को समझने लग गया है हमारे मीडिया का एक हिस्सा अब क्रिकेट के अलावा महिला क्रिकेट एवं बाकी अन्य खेल –खिलाडियों के प्रति संवेदनशील हो रहा है आप भी जागिए अगली बार जब मिताली राज या सरदार सिंह की हॉकी टीम कोई नया खिताब जीते तो ढोल और तिरंगे के साथ उनका भी पूरी गर्मजोशी से स्वागत कीजिये, जश्न मनाइए क्योंकि हमें जितने पर खुश होना चाहिए न की सिर्फ तब जब भारतीय क्रिकेट टीम के ही जीते बल्कि हर बार जब इस देश का कोई खिलाड़ी फिर वो चाहे पुरुष हो या महिला अपने खेल से, अपनी मेहनत और हुनर से देश का नाम रौशन करे तब हमारा मकसद जीत होना चाहिए उसकी ख़ुशी होनी चाहिए फिर खेल चाहे कोई भी हो उससे देश का नाम रौशन करने वाला फिर भले भारत माँ का कोई लाल हो या फिर लाडली बेटियाँ  


#हिंदी_ब्लोगिंग 

टिप्पणियां

  1. इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपने बहुत अच्छा लिखा हैं, इस सच्चाई का सबको पता होना चाहिए कि क्रिकेट महिला कप्तान को **15लाख** सालाना और पुरुष क्रिकेट कप्तान को 2करोड़ सालाना मिलता हैं। हमारा राष्ट्रीय खेल हॉकी हैं उसे भी इतनी पॉपुलैरिटी नही मिली हैं,ठीक हैं सबकी अपनी पसंद होती हैं लेकिन अन्य खेलों को भी प्रसिद्धि दिलवाने के लिए कोई ना कोई कदम तो उठाना ही चाहिए।

      हटाएं

टिप्पणी पोस्ट करें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राखोश- भारत की पहली पीओवी तकनीक आधारित साइकोलॉजिकल थ्रिलर!

तकनीक के इस्तेमाल के मामले में वैसे तो भारतीय सिनेमा हॉलीवुड से अभी बहुत पीछे माना जाता है। लेकिन अब शायद वो दौर शुरू हो गया है जब भारतीय फ़िल्म निर्माता/निर्देशकों ने फ़िल्म निर्माण में कहानी और संगीत के अलावा इससे जुड़े अन्य पहलुओं पर भी गंभीरता से विचार करना शुरू कर दिया है।

शायद ये इसी का नतीजा है कि देश में पहली बार और विश्व सिनेमा के इतिहास में दूसरी बार पीओवी तकनीक का इस्तेमाल कर एक फ़िल्म का सफ़लतापूर्वक निर्माण किया गया है।



क्या है ये पीओवी तकनीक?

पीओवी का मतलब होता है (पॉइंट ऑफ़ व्यू- नज़रिया)। आपने अक्सर फ़िल्मों में किसी ख़ास किरदार के नज़रिए को लेकर फरमाए गए कुछ ख़ास सीन्स या डायलॉग देखे होंगे। लेकिन यदि एक पूरी की पूरी फ़िल्म ही किसी ख़ास क़िरदार के नज़रिए से बना दी जाए, तो क्या कहने!

दरअसल यहाँ सिर्फ़ ये बात ख़ास नहीं है कि एक किरदार विशेष को पूरी कहानी में तवज्जों दी गई है। बल्कि इस फ़िल्म की ख़ासियत ये है कि फ़िल्म का मुख्य कलाकार कोई और नहीं बल्कि फ़िल्म का कैमरा है। जो फ़िल्म के मुख्य किरदार का रोल निभाता है जिसके इर्द-गिर्द फ़िल्म की कहानी घूमती है।

दर्शक इस मुख्य किरदार को देख तो नहीं …

क्या थीं इन अपराधियों की अंतिम इच्छा, यहाँ पढ़ें!

भारत सहित दुनिया के कई देशों में फांसी की सज़ा का प्रावधान आज भी मौजूद है। हालाँकि भारत में फांसी की सज़ा'रेयरेस्ट ऑफ द रेयर' अपराध की श्रेणी में आने वाले अपराधियों को ही दी जाती है। इस कठोर सज़ा के एक बार पक्के हो जाने के बाद ऐसी कई प्रक्रियाएँ होती हैं जिनसे जेल मेन्युअल के तहत हर मुज़रिम को गुज़ारना पड़ता है। ऐसी ही एक ख़ास प्रक्रिया होती है मुज़रिम की अंतिम इच्छा जानने की। जिसे जेल मेन्युअल के तहत मानवीय आधार पर हर मरने वाले से पूछा जाता है और फिर अधिकारी उस पर निर्णय लेते हैं कि क्या अपराधी की अंतिम इच्छा को पूरा किया जा सकता है या नहीं?


ऐसे में जब साल2020की शुरुआत में निर्भया के चार दोषियों को एक साथ फांसी की सज़ा दी जाने वाली है तो ये प्रक्रिया उनके साथ भी अपनाई जाएगी। हालाँकि अभीतक निर्भया के दोषियों से जुड़ी इस प्रक्रिया के बारे में कोई जानकारी मीडिया में नहीं आयी है। लेकिन इसी बीच दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में मृत्युदंड कुछ मुजरिमों ने अपनी कौन-सी ख्वाहिश अंतिम इच्छा के तौर पर ज़ाहिर की थी आइये उनके बारे में जानें।
माइकल नेय- नेपोलियन की सेना के इस बहादुर कमांडर ने अपनी मौत से पह…

हंगामा क्यों है बरपा, पूछताछ ही तो की है ?

अर्णव गोस्वामी के अलावा भी पूरे देश में ऐसे सैकड़ों पत्रकार हैं जो अपना काम बड़ी मेहनत और ईमानदारी से करते हैं। हाँ ये अलग बात है कि वो इतने रसूखदार नहीं हैं कि किसी नेता, मंत्री या राजनीतिक दल या देश की मीडिया ये मठाधीशों को उनकी चिंता हो। ताज़ा उदहारण के तौर पर याद कीजिये उत्तर प्रदेश के मिर्ज़ापुर के सामान्य से पत्रकार पवन जायसवाल को, जिसे स्थानीय प्रशासन द्वारा इसलिए प्रताड़ित किया गया, उसपर मुकदमा कर दिया गया। क्योंकि उसने अपनी एक ग्राउंड रिपोर्ट में मिडडे मील के नाम पर सरकारी स्कूल के बच्चों को नामक रोटी परोसने की घटना को उजागर किया था। न कि स्टूडियो में बैठकर कोरे आरोप लगाए थे। ऐसी स्पष्ट और साहसिक पत्रकारिकता करने वाले मीडियाकर्मी के लिए क्या किसी बड़े पत्रकार ने, मीडिया के मठाधीश ने इंसाफ दिलाने के लिए कोई पहल की ?

ऐसे में अर्णव गोस्वामी का पक्ष लेने वाले पत्रकारों, नेताओं आदि को ये याद रखना चाहिए कि, अर्णव पूरे भारतीय मीडिया या भारतीय पत्रकारों का प्रतिनिधि नहीं है। साथ ही वर्तमान में वो एक बड़े मीडिया हाउस के मालिक भी हैं इसलिए इस बात से कतई इंकार नहीं किया जा सकता कि उनका इन्ट्रे…