सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कल कुछ अच्छा भले न बोलिए सच्चा ज़रूर बोलिए

हेल्लो मोदी जी..... हां कौन, जी जनता, पहचाने! मललब वही जिसे आप जिन्हें भाईयों और बहनों, मित्रों-मित्रों कहकर संबोधित करते है वही वाली जनता आपके देश की।  
आपके कल के भाषण के लिए आपने जनता से आईडिया माँगा था न, रीमेम्बर ? याद आया..... ?????

मेरे पास है कुछ मसालेदार आईडिया आपके कल के लाल कीले वाले भाषण के लिए सच में आगा लगा देंगे स्टेज पर। बस आप बोलने के लिए 56 इंच वाली छाती तैयार रखिये।
सर अपने जबसे हमसे आईडिया मांगे थे तब से तड़प रहा हूँ की क्या बताऊ, क्या छोडू। वो क्या है न कि अब आप लोगों मतलब की पार्टी वालों की भी करतूते कम नहीं रह गयी है तो सोचा वही सब याद करा दूँ बोलने के लिए।
अच्छा वो पानाम पेपर वाला मुद्दा कैसा रहेगा उससे शुरू कीजिये तो कैसा रहेगा? देखिए न  आतंकवाद की नर्सरी, स्कूल, कॉलेज चलाने वाले देश ने भी अपने प्रधानमंत्री को नहीं बक्शा। तो फिर आप तो पता नहीं कितनी बार किसकी-किसकी कसम खा चुके है कि भारत से भ्रष्ट्राचार ख़त्म करके ही रहेंगे। तो फिर बोलिए कुछ तगड़ा सा अपने भाषण में कहिये कुछ अपने जबरा फैन्स को खुश करने वाला।

दूसरा वो चीन का क्या करना है कुछ बताइए मललब चाइना की बनी राखी मत खरीदों, मोबाइल मत लो, अब फिर दीपावली भी आ रही है। उधर सोशल मीडिया से लेकर मेट्रो की सीढियों तक राष्ट्रवाद की घुट्टी में घुले मासूम भारतीय सिग्नेचर कैंप चला-चला के आधे हुए जा रहे है कुछ कीजिये उनका । बाकि रामदेव बाब अलग लंगोटी खोंसकर दिनभर टीवी पर देशभक्त बनने का ज्ञान दे रहे है। उनसबको कैसे समझाए कि जब तक चाइना एवं अन्य विदेशी कम्पनियों का माल भारत आएगा तब तक बिकेगा और इस्तेमाल भी होगा। बंद क्यों नहीं करवाते वो सब? गज़ब कंफ्यूज कर रखा है आपने भी।  हटाइए ये WTO वगेरा का चक्कर, किससे डरते है आपउधर नागपुर मेट्रो के 69 कोच बनाने का भी ठेका 851 करोड़ में (चाइना रेलवे रोलींग स्टॉक कारपोरेशान) को दे रखा है फाडनविस जी ने।  इधर आपके मासूम-निर्दोष भक्त मेक इन इंडिया-मेक इंडिया वाला गाना सुनाते है दिनभर।  रियली सर वी आर टोटली कंफ्यूज, टोटली फेडअप कुछ इसपर भी बोलने की कोशिश कीजिये।

एक अन्दर की बात बताऊ जब से ये चाइना के विरोध में लोगों ने मोर्चा निकाल जगह-जगह बॉयकट चाइनीस प्रोडक्ट का स्टीकर चिपकाना शुरू किया है न तब से चीनी कम्पनियां इस धंधे में भी कूद पड़ी है, कि बॉयकट चाइनीस प्रोडक्ट के स्टीकर बनाकर भारत भेजो बहुत मांग है इसकी भी। हमारे माल बाकि के साथ-साथ अब ये भी खूब बिक रहा है।

चाइना पकिस्तान का हो गया अब देश के अन्दर के मुद्दे :
सुना है कि वो आर्थिक सर्वेक्षण की कोई रिपोर्ट बनाई है आप लोगों ने दुबारा से, ये जानने के लिए की नोटबंदी, जी एस टी का के क्या क्या फायदे हुए। वैसे पता ऐसा भीं पहली बार हो रहा है की एक साल में या फिर यूँ कहे कि 6 महीने के भीतर दो बार आर्थिक सर्वेक्षण करवाया गया हो। खैर आपकी सरकार हर महीने करवा लीजिए मेरा क्या।
मगर उसमे जो निकल के आया वो आपके उन दूरगामी परिणामों से दूर-दूर तक कहीं मेल खता नहीं दिख रहा, ऐसा क्यों? आपके तो बहुत से विद्वानों ने कहा था कि नोटबंदी के दूरगामी परिणाम बहुत अच्छे होंगे फिर ये तो अभी से ही लड़खड़ाने लगे। पहले जेटली जी ने कहा था कि विकास दर 7.5 प्रतिशत रहेगी अब बोल रहे है मुश्किल है। उधर जुलाई में आये (आई आई पी) के आकड़े भी बेहतर नहीं आये ऐसा क्यों? आई एम एफ की खबर भी साथ नहीं दे रही, कुछ कीजिये। पिछले दिनों वो भी बोल गए कि विकास दर घटने वाली है। नहीं-नहीं वो विकास तो चंडीगढ़ में है जेल में बंद वो नहीं, विकास दर. काइंडली डोंट गेट कंफ्यूज।


अब थोड़े से टिप्स भी ले लीजिए :
वो क्या है न कि पिछले दिनों हमारे देश के पार्ट टाइम रक्षा मंत्री केरला गए थे।  सुना है उधर बतेरे संघ कार्यकर्त्ता मारे गए लाल झंडे वालों के हाथों। अफ़सोस ! खैर मानवाधिकार के मसलों से जुडी कुछ रिपोर्ट्स तो ये भी बताती है कि जितने संघी मरे लगभग उतने ही लाल झंडे वाले भी मरे। वेल मेरा टेंशन ये नहीं है कि संघी मरे या सी पी एम वाले। मेरा कंसर्न वो जो देश के लिए घर द्वार छोड़ सियाचिन में अपनी हड्डी गला रहे है न उनसे है। सच में धन्य है माँ के वो लाल। सुना है ठण्ड से हाथ-पैर खराब हो जाते है वहां ड्यूटी करने वालों के। जेटली जी को बोलिए कभी उनके भी घर हो आये जब लिपट के आते है वो तिरेंगे में, बहुत बुरा लगता है। हैं मेरे भी कुछ दोस्त फौज में सोचता हूँ तो डर लगता है। भेजिए जेटली जी को कभी उनके भी घर उनके बूढ़े माँ-बाप बेवा बीवी बच्चों से मिलने।


अब बात करते है गोरखपुर की क्या हुआ आपने ट्वीट नहीं किया अभी तक???? पिछली बार आपके 10-12 ट्वीट देखे थे जब नितीश कुमार की अंतरआत्मा ने करवट ली थी। आपकी आत्मा नहीं कचोट रही आपको? बांग्लादेश में लोग बाढ़ से मरे या फिर मेंचेस्टर में बम फटे तो आप दुखी हो जाते है गोरखपुर तो इधर ही है अपने दिल्ली से चंद सौ किलोमीटर दूर। तो फिर कुछ बोलिए लेट से ही बोल दीजिए, कह दीजिएगा मित्रो समय पर ट्वीट नहीं कर पाया इंटरनेट का बिल जमा नहीं कर पाया था इसलिए अम्बानी ने लाइन काट दी थी। हम मान लेंगे मगर बोलिए ज़रूर। 

धन्यबाद :     



  





टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राखोश- भारत की पहली पीओवी तकनीक आधारित साइकोलॉजिकल थ्रिलर!

तकनीक के इस्तेमाल के मामले में वैसे तो भारतीय सिनेमा हॉलीवुड से अभी बहुत पीछे माना जाता है। लेकिन अब शायद वो दौर शुरू हो गया है जब भारतीय फ़िल्म निर्माता/निर्देशकों ने फ़िल्म निर्माण में कहानी और संगीत के अलावा इससे जुड़े अन्य पहलुओं पर भी गंभीरता से विचार करना शुरू कर दिया है।

शायद ये इसी का नतीजा है कि देश में पहली बार और विश्व सिनेमा के इतिहास में दूसरी बार पीओवी तकनीक का इस्तेमाल कर एक फ़िल्म का सफ़लतापूर्वक निर्माण किया गया है।



क्या है ये पीओवी तकनीक?

पीओवी का मतलब होता है (पॉइंट ऑफ़ व्यू- नज़रिया)। आपने अक्सर फ़िल्मों में किसी ख़ास किरदार के नज़रिए को लेकर फरमाए गए कुछ ख़ास सीन्स या डायलॉग देखे होंगे। लेकिन यदि एक पूरी की पूरी फ़िल्म ही किसी ख़ास क़िरदार के नज़रिए से बना दी जाए, तो क्या कहने!

दरअसल यहाँ सिर्फ़ ये बात ख़ास नहीं है कि एक किरदार विशेष को पूरी कहानी में तवज्जों दी गई है। बल्कि इस फ़िल्म की ख़ासियत ये है कि फ़िल्म का मुख्य कलाकार कोई और नहीं बल्कि फ़िल्म का कैमरा है। जो फ़िल्म के मुख्य किरदार का रोल निभाता है जिसके इर्द-गिर्द फ़िल्म की कहानी घूमती है।

दर्शक इस मुख्य किरदार को देख तो नहीं …

क्या थीं इन अपराधियों की अंतिम इच्छा, यहाँ पढ़ें!

भारत सहित दुनिया के कई देशों में फांसी की सज़ा का प्रावधान आज भी मौजूद है। हालाँकि भारत में फांसी की सज़ा'रेयरेस्ट ऑफ द रेयर' अपराध की श्रेणी में आने वाले अपराधियों को ही दी जाती है। इस कठोर सज़ा के एक बार पक्के हो जाने के बाद ऐसी कई प्रक्रियाएँ होती हैं जिनसे जेल मेन्युअल के तहत हर मुज़रिम को गुज़ारना पड़ता है। ऐसी ही एक ख़ास प्रक्रिया होती है मुज़रिम की अंतिम इच्छा जानने की। जिसे जेल मेन्युअल के तहत मानवीय आधार पर हर मरने वाले से पूछा जाता है और फिर अधिकारी उस पर निर्णय लेते हैं कि क्या अपराधी की अंतिम इच्छा को पूरा किया जा सकता है या नहीं?


ऐसे में जब साल2020की शुरुआत में निर्भया के चार दोषियों को एक साथ फांसी की सज़ा दी जाने वाली है तो ये प्रक्रिया उनके साथ भी अपनाई जाएगी। हालाँकि अभीतक निर्भया के दोषियों से जुड़ी इस प्रक्रिया के बारे में कोई जानकारी मीडिया में नहीं आयी है। लेकिन इसी बीच दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में मृत्युदंड कुछ मुजरिमों ने अपनी कौन-सी ख्वाहिश अंतिम इच्छा के तौर पर ज़ाहिर की थी आइये उनके बारे में जानें।
माइकल नेय- नेपोलियन की सेना के इस बहादुर कमांडर ने अपनी मौत से पह…

हंगामा क्यों है बरपा, पूछताछ ही तो की है ?

अर्णव गोस्वामी के अलावा भी पूरे देश में ऐसे सैकड़ों पत्रकार हैं जो अपना काम बड़ी मेहनत और ईमानदारी से करते हैं। हाँ ये अलग बात है कि वो इतने रसूखदार नहीं हैं कि किसी नेता, मंत्री या राजनीतिक दल या देश की मीडिया ये मठाधीशों को उनकी चिंता हो। ताज़ा उदहारण के तौर पर याद कीजिये उत्तर प्रदेश के मिर्ज़ापुर के सामान्य से पत्रकार पवन जायसवाल को, जिसे स्थानीय प्रशासन द्वारा इसलिए प्रताड़ित किया गया, उसपर मुकदमा कर दिया गया। क्योंकि उसने अपनी एक ग्राउंड रिपोर्ट में मिडडे मील के नाम पर सरकारी स्कूल के बच्चों को नामक रोटी परोसने की घटना को उजागर किया था। न कि स्टूडियो में बैठकर कोरे आरोप लगाए थे। ऐसी स्पष्ट और साहसिक पत्रकारिकता करने वाले मीडियाकर्मी के लिए क्या किसी बड़े पत्रकार ने, मीडिया के मठाधीश ने इंसाफ दिलाने के लिए कोई पहल की ?

ऐसे में अर्णव गोस्वामी का पक्ष लेने वाले पत्रकारों, नेताओं आदि को ये याद रखना चाहिए कि, अर्णव पूरे भारतीय मीडिया या भारतीय पत्रकारों का प्रतिनिधि नहीं है। साथ ही वर्तमान में वो एक बड़े मीडिया हाउस के मालिक भी हैं इसलिए इस बात से कतई इंकार नहीं किया जा सकता कि उनका इन्ट्रे…