सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

ये घोड़ा आपका है इसके इस्तेमाल से मत डरिये

दोस्तों अक्सर ऐसा देखने को मिलता है कि इंसान अपनी पसंद के जरूरत के बहुत से काम सिर्फ ये सोचकर नहीं करता कि दुनिया क्या सोचेगीपास-पड़ोस के लोग क्या कहेंगे। दरअसल अपने दैनिक जीवन में   हम  जितने तरह के लोगों से मिलते है उन सबके विचार हमारे प्रति अलग-अलग होते है। इन्हीं पराये विचारों के दबाव में आकर हम अपना आत्मविश्वास खो देते है, और न चाहते हुए भी गलत निर्णय ले लेते है। आज की ये कहानी ऐसे ही पिता-पुत्र के सफर से जुड़ी हुई है जहां दोनों पिता-पुत्र अनजाने लोगों की बातों में आकर बेवजह अपने सफर का आनंद गवां देते है।


एक बार पिता-पुत्र का एक जोड़ा व्यापार के सिलसिले में अपने  एक पालतू घोड़े पर सवार होकर घर से निकलता है। रास्ते में वे दोनों कई अनजान शहरों से गुजरते है। मार्ग में जब वे चाय-नाश्तें के लिए एक  अनजान नगर में रूकते है तो एक अपरिचित व्यक्ति उन्हें टोक कर कहता है कि भाई आप कैसे कठोर लोग है। एक बेचारे बेज़ुबान जानवर पर दो-दो लोग सवार है ये भी भला कोई बात हुई, शर्म करो।

उसकी बातों से वे दोनों पिता-पुत्र स्वयं को दोषी मानकर फटाफट घोड़े से उतर जाते है। उसके बाद अपने बेटे के कहने पर बुर्जुग पिता घोड़े पर सवार हो जाते हैं मगर फिर जब वो अगले दिन एक नए नगर को पहुंचते है तो वहां कुछ लोग उस बुर्जुग को टोकते हुए कहते है कि भाई रहम खाओ इस नौजवान पर माना कि तुम्हारी उम्र हो रही है मगर ये युवक भी तो इंसान है। बेचार कब तक यूं पैदल चलेगा शर्म करो उतरो इस घोड़े से और इस बेचारे युवक को घोड़े की सवारी करने दो।


पिता के कहने पर एवं काफी मान-मनौव्वल के बाद बेटा अकेले घोड़े पर सवार हो जाता है। आगे मार्ग में फिर कुछ गांववाले उन्हें आते दिखाई देते है। बड़ी देर तक उन दोनों बाप-बेटे को निहारने के बाद उनमें से एक व्यक्ति ताना मारते हुए कहता है कि  देख लो भाई क्या ज़माना आ गया है।  बुर्जुग पैदल चल रहे है और हटटा-कटटा नौजवान घोड़े पर सवार है। उसकी ये बातें सुनकर नौजवान काफी शर्मिदा   हो जाता है और तुरंत ही घोड़े से उतर जाता है। दोनों पिता-पुत्र लोगों की बातों को काफी गंभीरता से लेते है।


अंततः ये निर्णय होता है कि अब दोनों में से कोई भी घोड़े पर नहीं बैठेगा। घोड़े की लगाम हाथ में लिए थके-हारे दोनों किसी तरह अपना सफर तय करते है। रास्ते में जब विश्राम के लिए वो एक मंदिर के प्रागंण में रूकते है तब वहां के पुजारी उनसे उनकी दयनीय स्थिती का कारण पूछते है एवं उत्तर मिलने पर उनसे कहते है तुम्हारा ये घोड़ा अभी जवान एवं तंदरूस्त है और फिर भी तुम उसका उपयोग कर पाए। अपने डोलते आत्मविश्वास के कारण तुम दूसरों की बातों में आ गए। ऐसे लोगों की बातों में जो न तुम्हें जानते है न ही तुम्हारें जवान एवं तंदरूस्त घोडे़ के बारे में फिर भी तुमने उनकी बात मानी स्वयं पर भरोसा नहीं किया क्यों?  जरा सोचों, तुम दोनों पैदल-पैदल ही अपना सफर तय कर रहे। उनकी ये बातें एक बार फिर उन दोनों को तीर सी चुभती है। मगर साथ ये भी समझ नहीं आ रहा होता कि आखिर अलग-अलग नगर में मिले भिन्न-भिन्न लोगों में से कौन सहीं था और कौन गलत। किसका कहा उन्हें मानना चाहिए था और किसकी बातों को गंभीरता से नहीं लेना चाहिए था।
 

दोस्तों ऐसा अक्सर हमारे साथ भी होता है और खासकर उन लोगों के साथ कुछ ज्यादा ही होता है जिन्हें खुद के किये पर अपने निर्णय पर स्वयं संशय होता है। जिन्हें इस बात की खासी चिंता रहती है कि लोग क्या सोचेगे,   कहीं कोई उनके इस निर्णय का बुरा तो नहीं मान लेगा। इन सभी पसोपेश में वे अपने विवेक का इस्तेमाल करना भूल जाते है। जो कि उनके लिए नुकसानदेह साबित होता है। ऐसे में जरूरी है कि हम किसी भी काम को करते वक्त अपने आत्मविश्वास को न खोए। किसी की बातों में आने की बजाए अपने विवेक का इस्तेमाल करें। वरना हमारे पास जरूरत का सामान होते हुए भी कष्ट सहना पड़ सकता है ठीक वैसे ही जैसे इस कहानी के किरदारों के पास घुड़सवारी की सुविधा होते हुए भी कभी एक को तो कभी दोनों को कष्ट झेलना पड़ा।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राखोश- भारत की पहली पीओवी तकनीक आधारित साइकोलॉजिकल थ्रिलर!

तकनीक के इस्तेमाल के मामले में वैसे तो भारतीय सिनेमा हॉलीवुड से अभी बहुत पीछे माना जाता है। लेकिन अब शायद वो दौर शुरू हो गया है जब भारतीय फ़िल्म निर्माता/निर्देशकों ने फ़िल्म निर्माण में कहानी और संगीत के अलावा इससे जुड़े अन्य पहलुओं पर भी गंभीरता से विचार करना शुरू कर दिया है।

शायद ये इसी का नतीजा है कि देश में पहली बार और विश्व सिनेमा के इतिहास में दूसरी बार पीओवी तकनीक का इस्तेमाल कर एक फ़िल्म का सफ़लतापूर्वक निर्माण किया गया है।



क्या है ये पीओवी तकनीक?

पीओवी का मतलब होता है (पॉइंट ऑफ़ व्यू- नज़रिया)। आपने अक्सर फ़िल्मों में किसी ख़ास किरदार के नज़रिए को लेकर फरमाए गए कुछ ख़ास सीन्स या डायलॉग देखे होंगे। लेकिन यदि एक पूरी की पूरी फ़िल्म ही किसी ख़ास क़िरदार के नज़रिए से बना दी जाए, तो क्या कहने!

दरअसल यहाँ सिर्फ़ ये बात ख़ास नहीं है कि एक किरदार विशेष को पूरी कहानी में तवज्जों दी गई है। बल्कि इस फ़िल्म की ख़ासियत ये है कि फ़िल्म का मुख्य कलाकार कोई और नहीं बल्कि फ़िल्म का कैमरा है। जो फ़िल्म के मुख्य किरदार का रोल निभाता है जिसके इर्द-गिर्द फ़िल्म की कहानी घूमती है।

दर्शक इस मुख्य किरदार को देख तो नहीं …

क्या थीं इन अपराधियों की अंतिम इच्छा, यहाँ पढ़ें!

भारत सहित दुनिया के कई देशों में फांसी की सज़ा का प्रावधान आज भी मौजूद है। हालाँकि भारत में फांसी की सज़ा'रेयरेस्ट ऑफ द रेयर' अपराध की श्रेणी में आने वाले अपराधियों को ही दी जाती है। इस कठोर सज़ा के एक बार पक्के हो जाने के बाद ऐसी कई प्रक्रियाएँ होती हैं जिनसे जेल मेन्युअल के तहत हर मुज़रिम को गुज़ारना पड़ता है। ऐसी ही एक ख़ास प्रक्रिया होती है मुज़रिम की अंतिम इच्छा जानने की। जिसे जेल मेन्युअल के तहत मानवीय आधार पर हर मरने वाले से पूछा जाता है और फिर अधिकारी उस पर निर्णय लेते हैं कि क्या अपराधी की अंतिम इच्छा को पूरा किया जा सकता है या नहीं?


ऐसे में जब साल2020की शुरुआत में निर्भया के चार दोषियों को एक साथ फांसी की सज़ा दी जाने वाली है तो ये प्रक्रिया उनके साथ भी अपनाई जाएगी। हालाँकि अभीतक निर्भया के दोषियों से जुड़ी इस प्रक्रिया के बारे में कोई जानकारी मीडिया में नहीं आयी है। लेकिन इसी बीच दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में मृत्युदंड कुछ मुजरिमों ने अपनी कौन-सी ख्वाहिश अंतिम इच्छा के तौर पर ज़ाहिर की थी आइये उनके बारे में जानें।
माइकल नेय- नेपोलियन की सेना के इस बहादुर कमांडर ने अपनी मौत से पह…

हंगामा क्यों है बरपा, पूछताछ ही तो की है ?

अर्णव गोस्वामी के अलावा भी पूरे देश में ऐसे सैकड़ों पत्रकार हैं जो अपना काम बड़ी मेहनत और ईमानदारी से करते हैं। हाँ ये अलग बात है कि वो इतने रसूखदार नहीं हैं कि किसी नेता, मंत्री या राजनीतिक दल या देश की मीडिया ये मठाधीशों को उनकी चिंता हो। ताज़ा उदहारण के तौर पर याद कीजिये उत्तर प्रदेश के मिर्ज़ापुर के सामान्य से पत्रकार पवन जायसवाल को, जिसे स्थानीय प्रशासन द्वारा इसलिए प्रताड़ित किया गया, उसपर मुकदमा कर दिया गया। क्योंकि उसने अपनी एक ग्राउंड रिपोर्ट में मिडडे मील के नाम पर सरकारी स्कूल के बच्चों को नामक रोटी परोसने की घटना को उजागर किया था। न कि स्टूडियो में बैठकर कोरे आरोप लगाए थे। ऐसी स्पष्ट और साहसिक पत्रकारिकता करने वाले मीडियाकर्मी के लिए क्या किसी बड़े पत्रकार ने, मीडिया के मठाधीश ने इंसाफ दिलाने के लिए कोई पहल की ?

ऐसे में अर्णव गोस्वामी का पक्ष लेने वाले पत्रकारों, नेताओं आदि को ये याद रखना चाहिए कि, अर्णव पूरे भारतीय मीडिया या भारतीय पत्रकारों का प्रतिनिधि नहीं है। साथ ही वर्तमान में वो एक बड़े मीडिया हाउस के मालिक भी हैं इसलिए इस बात से कतई इंकार नहीं किया जा सकता कि उनका इन्ट्रे…