Skip to main content

तो क्या ऐसे खत्म होगा भ्रष्ट्राचार , कालाधन ?

जिन्हे लगता है कि मौजूदा केंद्र सरकार आज़ाद भारत कि सबसे ईमानदार सरकार है और प्रधानमन्त्री मोदी पर तो आप चवन्नी कि हेराफेरी का आरोप लगाने का दुस्साहस भी नहीं कर सकते, वो ज़रूर पढ़ें।  

भारतीय राजनीति में राजनीतिक दलों को मिलने वाले चंदे के लिए कई नियमों में से एक नियम हैं/था कि यदि कोई भी राजनीतिक दल 20000 से ज़्यादा का चंदा अपने किसी भी शुभचिंतक से लेता है तो राजनीतिक दल को उस शुभचिंतक का नाम सार्वजानिक करना पड़ता था/है। मगर नेहरू के वक़्त से लेकर अटल बिहार से होते हुए देश के सबसे ईमानदार प्रधानमंत्री मोदी जी तक हर राजनीतिक दल ने, सरकार ने ज़्यादातर दानकर्ताओं से प्राप्त चंदे को हमेशा 20000 से कम बताया। यानी कि जमकर काली कमाई में हिस्सेदारी ली। इसी प्रकार आरपी एक्ट की धारा 29 सी के तहत अब भी 20,000 रुपये तक का चंदा बिना किसी हिसाब-किताब के लिया जा सकता है. इसलिए राजनीतिक चंदे में जवाबदेही या पारदर्शिता पर भी कोई असर पड़ता नहीं दिख रहा

सनद रहे कि आज के वक़्त में भाजपा देश कि सबसे धनी राजनीतिक पार्टी है जिसे पिछले सालों सबसे ज़्यादा राजनीतिक चंदा मिला है। जिस चंदे के पैसों से प्रधानमंत्री बनने के पहले मोदी देशभर में अपना और अपनी पार्टी का प्रचार करते रहे हैं, कहते रहे है कि वो प्रधानमंत्री बने तब कालधन रखने वाले जेल जाएंगे।  मगर वे खुद किस सफ़ेद चंदे से चुनाव लड़कर आये हैं वो ये नहीं बताएंगे।  


अब बात करते है इस राजनीतिक चंदे के नियम में हुए ताज़ा बदलाव की! नए नियम के अनुसार यदि कोई व्यक्ति, संस्था समाजसेवी संस्था, कॉर्पोरेट घराना किसी राजनीतिक पार्टी को चंदा देना चाहता तब 2000 से ज़्यादा का चंदा उसे ऑनलाइन बैंकिंग प्रक्रीया के ज़रिये, चेक के जरिया या फिर इलेक्टोरल बांड के द्वारा देना होगा। ये सुनने में बेहद अच्छा लगता है कि सरकार अब ऐसा कानून बना रही है जिससे पारदर्शित आएगी।कि, अगर कोई दानकर्ता 2000 से ज़्यादा चंदा देगा तो उसे बैंकिंग प्रक्रीया से होकर गुज़ारना होगा। मगर सरकार ने इस नियम को बनाने में जो बड़ी चालाकी खेली वो आम जनता के साथ कितना बड़ा विश्वास घात है इसे समझना भी ज़रूरी है। 
नए नियम के अनुसार किसी भी राजनीतिक दल को जितना मर्ज़ी चंदा बैंकिंग प्रक्रीया के ज़रिये, चेक के जरिया या फिर इलेक्टोरल  बांड के द्वारा कोई भी अदृश्य दानकर्ता दे सकता है इसमें न तो देने वाला दानकर्ता को उस राजनीतिक दल का नाम बताने के लिए कोई क़ानूनी बाध्यता है न ही चंदा लेने वाले दल पर ऐसी जिम्मेदारी कि वो अपने दानकर्ता का नाम उजागर करें। ऐसे में बहुतेरे गंभीर सवाल मौजूदा सरकार कि भ्रष्ट्रचार, कालाधान के विरुद्ध कथित लड़ाई पर प्रश्नचिन्ह लगते है।


वही बात-बात पर मौजूदा सरकार के कार्यकलापों पर सवाल खड़ा करने वाला विरोध करने वाल विपक्ष भी आँखे मूँदकर बिना किसी विरोध के इस नियम का बिल का स्वागत कर चूका है।



ऐसे में-
सवाल नंबर-1
किस व्यक्ति, समाजसेवी संस्था, कॉर्पोरेट घराना द्वारा कौन सा घोटाला कर पैसा कमाया गया और सरकारों राजनीतिक दलों को साधा गया जनता को कैसा पता चलेगा?  क्या ये देशहित हैं

सवाल नंबर-2
विदेशी कंपनियां, समाज सेवी संस्थाएं जिनसे संघ विचारकों के खासे मतभेद है वो अपना कौन सा ऐजेंडा सेट करने के लिए किस राजनीतिक दल से क्या डील करती है उससे देश के आम नागरिक क्या फायदा नुकसान होगा ये कैसे पता चलेगा?

सवाल नंबर-3

क्या इससे राजनीतिक भ्रष्ट्रचार कम होगा अगर हाँ तो कैसे अगर नहीं तो फिर मोदी जी के कालाधान ख़त्म करने कि मुहीम का क्या हुआ?

सवाल नंबर-4
क्या इससे व्यक्ति,संस्था समाजसेवी संस्था,कॉर्पोरेट घराना आदि को ये मैसेज नहीं जाता कि आप कोई भी घोटाला करिये बाद में सरकार को इलेक्ट्रोल बांड खरीद कर दे देना बात ख़तम। क्योंकि किसी को पता भी नहीं चल पाएगा कि ये घोटाले करने वाले दल ने मामला ठंडा करने के लिए सरकार को चढ़ावा दिया है कितना चढ़ावा दिया है डील कितने में हुए ये तो शायद कभी न पता चले। ऐसे कई सवाल है जिनका सरकार जवाब नहीं देना चाहती ऐसे में कोई कैसे कहे कि मोदी जी देश से कालाधन ख़त्म करना चाहते है वो एक ईमानदार प्रधानमन्त्री है उनके ऊपर भ्रष्ट्राचार के आरोप लगाना गुनाह है?

सवाल नंबर-5
पुराने नियम में जहां 20000 से ऊपर चंदा प्राप्त होने पर दानकर्ताओं के नाम बताना ज़रूरी था तब अधिकांश राजनीतिक दलों ने एक ही तरह का खेल-खेल कर ज़्यादातर दानकर्ताओं से प्राप्त करोड़ों के चंदे कि रक़म को हमेशा 20000 से नीचे बताया। तब क्या एवं क्यों वो नए नियम के तहत इसका नाज़ायज़ फायदा कालाधन को ठिकाने लगाने में नहीं करेंगे जिसका हिसाब मांगने का हक़ किसी के पास नहीं होगा।

Comments

Popular posts from this blog

राखोश- भारत की पहली पीओवी तकनीक आधारित साइकोलॉजिकल थ्रिलर!

तकनीक के इस्तेमाल के मामले में वैसे तो भारतीय सिनेमा हॉलीवुड से अभी बहुत पीछे माना जाता है। लेकिन अब शायद वो दौर शुरू हो गया है जब भारतीय फ़िल्म निर्माता/निर्देशकों ने फ़िल्म निर्माण में कहानी और संगीत के अलावा इससे जुड़े अन्य पहलुओं पर भी गंभीरता से विचार करना शुरू कर दिया है।

शायद ये इसी का नतीजा है कि देश में पहली बार और विश्व सिनेमा के इतिहास में दूसरी बार पीओवी तकनीक का इस्तेमाल कर एक फ़िल्म का सफ़लतापूर्वक निर्माण किया गया है।



क्या है ये पीओवी तकनीक?

पीओवी का मतलब होता है (पॉइंट ऑफ़ व्यू- नज़रिया)। आपने अक्सर फ़िल्मों में किसी ख़ास किरदार के नज़रिए को लेकर फरमाए गए कुछ ख़ास सीन्स या डायलॉग देखे होंगे। लेकिन यदि एक पूरी की पूरी फ़िल्म ही किसी ख़ास क़िरदार के नज़रिए से बना दी जाए, तो क्या कहने!

दरअसल यहाँ सिर्फ़ ये बात ख़ास नहीं है कि एक किरदार विशेष को पूरी कहानी में तवज्जों दी गई है। बल्कि इस फ़िल्म की ख़ासियत ये है कि फ़िल्म का मुख्य कलाकार कोई और नहीं बल्कि फ़िल्म का कैमरा है। जो फ़िल्म के मुख्य किरदार का रोल निभाता है जिसके इर्द-गिर्द फ़िल्म की कहानी घूमती है।

दर्शक इस मुख्य किरदार को देख तो नहीं …

...इसलिए भारत ही नहीं वैश्विक अर्थव्यवस्था पर छा रहें हैं मंदी के बादल !

भारतीय अर्थव्यवस्था की चाल पिछले कुछ महीनों से स्पष्ट रूप से आने वाली मंदी के संकेत दे रही है। हालांकि अर्थव्यवस्था के जानकारों को ये दबाव एक के बाद एक किये गए नोटबंदी और जीएसटी के प्रयोग के तुरंत बाद से ही समझ आने लगा था। मगर केंद्र सरकार के अड़ियल रवैये के कारण इसका कोई ठोस हल नहीं निकल पाया। मेरे अपने शहर जमशेदपुर जहां एशिया की सबसे विशाल(Adityapur IndustrialAreaDevelopment Authority - AIADA Jharkhand India). में स्थित 1100 छोटी-बड़ी फैक्टरियां इस मंदी की शुरूआती भेंट चढ़ चुकी हैं
कारण टाटा मोटर्स का अपना उत्पाद घटाया जाना। जिनके लिए ये सभी फैक्टरियां विभिन्न प्रकार के ऑटो पार्ट्स बनाती थी। आप खुद अंदाज़ा लगा सकते हैं कि कितने लोग बेरोज़गार हुए होंगे कितने परिवारों की रोज़ी-रोटी का संकट आन खड़ा हुआ होगा। मगर दुर्भाग्य से ये संकट शायद जल्द न टल पाए क्योंकि डगमगाती भारतीय अर्थव्यवस्था के बाद अब जर्मनी और चीन जैसी बड़ी आर्थिक शक्तियों ने भी बुरे संकेत देने शुरू कर दिए हैं पूरी ख़बर नीचे पढ़ें...

जीएसटी और नोटबंदी के प्रयोग से चरमराई भारतीय अर्थव्यवस्था एवं भारतीय बाज़ार में तेज़ी से ख़राब हो रही ऑटो…

अल्लाह के नाम पर या मुल्ला के नाम पर ?

ज़ायरा वसीम जब फिल्मों में आयी थी तो ये उसकी मर्ज़ी थी। अब अगर वो फिल्मों में काम नहीं करना चाहती तो उसके फैसले का सम्मान होना चाहिए, न कि उसके फैसले पर स्टुडियो वाली अधकच्ची जानकारी के आधार पर मुर्गा लड़ाई आयोजित कर टीआरपी बढ़ाने का बेशर्म काम किया जाना चाहिए।

हालांकि अगर हम अपने आस-पास झांके तो हमें आपने आस-पास अल्लाह के ऐसें हज़ारों बंदे मिल जाएंगे जो दिनभर, 5 वक़्त की नमाज़ में अल्लाह से उनके लिए एक बार बॉलीवुड के रास्ते खोल देने की दुआ करते रहते हैं।



जबकि ज़ायरा वसीम की गलती ये  है कि वो बॉलीवुड को छोड़ने को लेकर कोई तर्कसंगत ठोस जवाब नहीं दें पायी जिससे कि उसके इस निजी फैसले पर कोई सवाल न उठे। दरअसल सही मायने में तो उसे किसी तरह का जवाब या सफाई देने की ज़रूरत थी भी नहीं।  कि, वो अपनी जिंदगी में आगे क्या करना चाहती है। लेकिन शायद ज़ायरा ने उम्र और तजुर्बे के कच्चेपन में ये एक चाही-अनचाही गलती कर दी।

उसने जिस तरह से अपने फैसले को धर्म, मज़हब से प्रभावित होकर लेने की बात कही वो बात कईयों के गले नहीं उतर रही। क्योंकि, बॉलीवुड में आजतक अगर किसी धर्म-जात या मज़हब के लोगों का राज रहा है तो उसमें प…