Skip to main content

जानिये कहां से ले सालाना एडमिशन या स्कूल फीस के लिए मदद-




लोग अभी तक बच्चों की उच्च शिक्षा या विदेश में होने वाली शिक्षा के खर्च का भार वहन करने में असमर्थ रहे हैं किंतु देश में प्राथमिक स्तर की प्राइवेट स्कूलों या इंग्लिश मीडियम के स्कूलों में बच्चों के दाखिले भी आज मीड़ियम क्लास के लोगों की नींव थर्रा जा रही है। बेहिसाब फीस की मोटी रकम माँ-बाप अपने बच्चों के लिए जुगाड़ नहीं पा रहे हैं। ऐसी स्थिति में एक बड़ी चिंता का विषय है कि लोगों को उच्चस्तरीय शिक्षा हेतु बैंक लोन या आर्थिक सहायता मुहैया कराती है यह तो पता है परंतु कुछ लोग प्राथमिक/नर्सरी शिक्षा हेतु देने का प्रावधान कुद एक बैंकों में है। इसकी जानकारी की आम जनता को नहीं है; जिसकी वजह से वे बहुत चिंतित रहा करते हैं।

आइए हम आपको कुछ बैंकों के बैंक की बेवसाइट पर उपलब्ध है। जिसका आप देख कर और जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। शिक्षा लोन पॉलिसी के बारे में विस्तृत जानकारी दे दें। जिससे आपको अगर भविष्य में आर्थिक मदद की जरूरत पड़े तो आप इसका उपयोग कर सकते हैं। इन बैंकों में हैं-

तमिलनाडु मर्केटाइल बैंक-

इसके अंतर्गत शार्ट टर्म स्टडी लोन के नाम से विद्यार्थियों की स्कूली शिक्षा के लिए स्कीम उपलब्ध है। जिसके अंतर्गत अधिकतम 25,000 रूपए या फिर अभिभावक की माह की ग्रॉस सैलरी  जो भी कम हो,  लोन के रूप में उपलब्ध है। इस  पर लगने वाली  सालाना ब्याज  दर 13.50 फीसदी है।

बैंक ऑफ़ बड़ौदा-

बैंक ऑफ़ बड़ौदा से विद्या स्कीम के आधार पर नर्सरी से 12 वीं तक की शिक्षा हेतु (एजुकेशनल लोन) का प्रावधान है। जिसके अंतर्गत आपको 4 लाख तक की वार्षिक सहायता प्रदान की जाती है। इस लोन की सबसे बड़ी फायदे की बात ये है कि ये लोन आपको  बिना किसी प्रकार के प्रोसेसिंग व डॉक्यूमेंटेशन चार्ज,  मार्जिन,  सिक्योरिटी  के प्राप्त हो जाता है। इसके अतिरिक्त बैंक ऑफ़ बड़ौदा  के विद्या स्कीम के  इस लोन के तहत छात्राओं के लिए दिए जाने वाले ऋण पर 0.50  प्रतिशत अतिरिक्त छूट की व्यवस्था है। इस लोन की अधिकतम जानकारी आप बैंक की वेबसाइट से प्राप्त कर सकते है।

इंडियन बैंक-

यह बैंक  आईबी बाल विद्या के नाम से एजुकेशनल लोन स्कीम चला रहा है। बैंक की बेवसाइट पर  उपलब्ध स्कीम की जानकारी के अनुसार बैंक नर्सरी से 12 वीं कक्षा तक के विद्यार्थियों के एडमिशन फीस,  किताबों, स्कूल ड्रेस, कम्प्यूटर फीस एवं  वाहन फीस आदि को लेकर वार्षिकी 30,000 रूपए प्रति परिवार को मदद करता है। यह लोन बैंक शासकीय सेवारत,  प्राइवेट या स्वयंसेवी कार्यरत व्यक्तियों को उपलब्ध कराता है। इस ऋण पर सालाना ब्याज दर 12.90 फीसदी है। इस लोन का लाभ लेने के लिए आपके पास इंडियन बैंक में कम से कम 3 साल पुराना खाता होना अनिवार्य शर्त है।

इलाहाबाद बैंक-

इलाहाबाद बैंक में ज्ञान दीपिका स्कीम  बच्चों की शिक्षा के लिए चलाई जाती है । इस स्कीम द्वारा बच्चों की स्कूल फीस के तौर पर आर्थिक मदद की जाती है। बैंक के बेवसाइट के अनुसार,  ज्ञान दीपिका स्कीम के तहत नर्सरी से लेकर 12 वीं कक्षा तक एडमिशन फीस,  परीक्षा फीस,  लाइब्रेरी फीस,   हॉस्टल चार्ज, किताबों, स्कूल ड्रेस का खर्च,  कम्प्यूटर  का खर्च आदि उपलब्ध करवाया जाता है। बैंक अपने लोन की अदायगी अभिभावक की कमाई के अनुसार वापस लेता है। इस लोन के तहत किसी भी बच्चे को अधिकतम 1 लाख एवं अधिकतम समय सीमा 3 वर्ष होती है। बात अगर इस लोन पर लगने वाली व्याज दर की करें तो  वह   सालाना 4.50 प्रतिशत है।

इन सभी बैंकों के अलावा भी ऐसे कई बैंक है जिनमें शायद आपका बैंक भी शामिल हो जहां इस प्रकार के लोन उपलब्ध हो सकते है। आप अपने बैंकों की वेबसाइट पर उनकी जानकारी प्राप्त कर सकते है।

Comments

Popular posts from this blog

राखोश- भारत की पहली पीओवी तकनीक आधारित साइकोलॉजिकल थ्रिलर!

तकनीक के इस्तेमाल के मामले में वैसे तो भारतीय सिनेमा हॉलीवुड से अभी बहुत पीछे माना जाता है। लेकिन अब शायद वो दौर शुरू हो गया है जब भारतीय फ़िल्म निर्माता/निर्देशकों ने फ़िल्म निर्माण में कहानी और संगीत के अलावा इससे जुड़े अन्य पहलुओं पर भी गंभीरता से विचार करना शुरू कर दिया है।

शायद ये इसी का नतीजा है कि देश में पहली बार और विश्व सिनेमा के इतिहास में दूसरी बार पीओवी तकनीक का इस्तेमाल कर एक फ़िल्म का सफ़लतापूर्वक निर्माण किया गया है।



क्या है ये पीओवी तकनीक?

पीओवी का मतलब होता है (पॉइंट ऑफ़ व्यू- नज़रिया)। आपने अक्सर फ़िल्मों में किसी ख़ास किरदार के नज़रिए को लेकर फरमाए गए कुछ ख़ास सीन्स या डायलॉग देखे होंगे। लेकिन यदि एक पूरी की पूरी फ़िल्म ही किसी ख़ास क़िरदार के नज़रिए से बना दी जाए, तो क्या कहने!

दरअसल यहाँ सिर्फ़ ये बात ख़ास नहीं है कि एक किरदार विशेष को पूरी कहानी में तवज्जों दी गई है। बल्कि इस फ़िल्म की ख़ासियत ये है कि फ़िल्म का मुख्य कलाकार कोई और नहीं बल्कि फ़िल्म का कैमरा है। जो फ़िल्म के मुख्य किरदार का रोल निभाता है जिसके इर्द-गिर्द फ़िल्म की कहानी घूमती है।

दर्शक इस मुख्य किरदार को देख तो नहीं …

क्या थीं इन अपराधियों की अंतिम इच्छा, यहाँ पढ़ें!

भारत सहित दुनिया के कई देशों में फांसी की सज़ा का प्रावधान आज भी मौजूद है। हालाँकि भारत में फांसी की सज़ा'रेयरेस्ट ऑफ द रेयर' अपराध की श्रेणी में आने वाले अपराधियों को ही दी जाती है। इस कठोर सज़ा के एक बार पक्के हो जाने के बाद ऐसी कई प्रक्रियाएँ होती हैं जिनसे जेल मेन्युअल के तहत हर मुज़रिम को गुज़ारना पड़ता है। ऐसी ही एक ख़ास प्रक्रिया होती है मुज़रिम की अंतिम इच्छा जानने की। जिसे जेल मेन्युअल के तहत मानवीय आधार पर हर मरने वाले से पूछा जाता है और फिर अधिकारी उस पर निर्णय लेते हैं कि क्या अपराधी की अंतिम इच्छा को पूरा किया जा सकता है या नहीं?


ऐसे में जब साल2020की शुरुआत में निर्भया के चार दोषियों को एक साथ फांसी की सज़ा दी जाने वाली है तो ये प्रक्रिया उनके साथ भी अपनाई जाएगी। हालाँकि अभीतक निर्भया के दोषियों से जुड़ी इस प्रक्रिया के बारे में कोई जानकारी मीडिया में नहीं आयी है। लेकिन इसी बीच दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में मृत्युदंड कुछ मुजरिमों ने अपनी कौन-सी ख्वाहिश अंतिम इच्छा के तौर पर ज़ाहिर की थी आइये उनके बारे में जानें।
माइकल नेय- नेपोलियन की सेना के इस बहादुर कमांडर ने अपनी मौत से पह…

...इसलिए भारत ही नहीं वैश्विक अर्थव्यवस्था पर छा रहें हैं मंदी के बादल !

भारतीय अर्थव्यवस्था की चाल पिछले कुछ महीनों से स्पष्ट रूप से आने वाली मंदी के संकेत दे रही है। हालांकि अर्थव्यवस्था के जानकारों को ये दबाव एक के बाद एक किये गए नोटबंदी और जीएसटी के प्रयोग के तुरंत बाद से ही समझ आने लगा था। मगर केंद्र सरकार के अड़ियल रवैये के कारण इसका कोई ठोस हल नहीं निकल पाया। मेरे अपने शहर जमशेदपुर जहां एशिया की सबसे विशाल(Adityapur IndustrialAreaDevelopment Authority - AIADA Jharkhand India). में स्थित 1100 छोटी-बड़ी फैक्टरियां इस मंदी की शुरूआती भेंट चढ़ चुकी हैं
कारण टाटा मोटर्स का अपना उत्पाद घटाया जाना। जिनके लिए ये सभी फैक्टरियां विभिन्न प्रकार के ऑटो पार्ट्स बनाती थी। आप खुद अंदाज़ा लगा सकते हैं कि कितने लोग बेरोज़गार हुए होंगे कितने परिवारों की रोज़ी-रोटी का संकट आन खड़ा हुआ होगा। मगर दुर्भाग्य से ये संकट शायद जल्द न टल पाए क्योंकि डगमगाती भारतीय अर्थव्यवस्था के बाद अब जर्मनी और चीन जैसी बड़ी आर्थिक शक्तियों ने भी बुरे संकेत देने शुरू कर दिए हैं पूरी ख़बर नीचे पढ़ें...

जीएसटी और नोटबंदी के प्रयोग से चरमराई भारतीय अर्थव्यवस्था एवं भारतीय बाज़ार में तेज़ी से ख़राब हो रही ऑटो…