Skip to main content

ज़िक्र 84 दा, साड्डे दिल चे वस्सी उदासी दा


सन 1984 के सिख विरोधी दंगों में बहुत से सिख परिवारों को बर्बाद कर दिया था। दिल्ली और उत्तर भारत के बाकी इलाकों से आए दिन सिखों की निर्मम हत्याओं की ख़बरें अख़बारों में भी छपती रही। मगर देश की राजधानी से कोसों  दूर मेरे शहर जमशेदपुर के सिख समुदाय ने कैसे अपना ये वक़्त गुज़ारा इसके किस्से मुझे मेरे घर के बड़ों ने सुनाए थे। दो दिनों पहले जब सिख दंगों के एक मुख्य आरोपी सज्जन कुमार को दिल्ली हाईकोर्ट ने इस घटना का दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सज़ा सुनाई तो पुराने ज़ख्म हरे हों गए। 



मेरे जैसे कानून को जानने-समझने वाले इस सज़ा को सुनकर भी इसलिए नहीं खुश हैं क्योंकि अभी भी देश के  सबसे बड़े कोर्ट की इस मामले से जुड़ी सुनवाई बाकी है। पता नहीं वहाँ से कब और क्या फैसला आएगा और उन दंगों में अपना सबकुछ गवां चुके कितने लोग उसे सुन पाएंगे। क्योंकि 39 साल की उम्र में जिस सज्जन कुमार ने ये कांड किया था उसे तो उसके कुकर्मों  की सज़ा 73 साल में मिल रही है जब वो ऐसे भी मरने ही वाला है।       

बात सन 1984 के सिख दंगों की! मेरे शहर जमशेदपुर में भी मौजूद सिख/पंजाबी समुदाय देश के बाकी शहरों/राज्यों के सिखों की तरह दहशत में थे। हर तरफ सिखों को खोज-खोजकर उनका क
क़त्लेआम करने की एक ज़हरीली हवा तेज़ी से बह रही थी।

उस वक़्त जमशेदपुर सिंहभूम जिले का हिस्सा था जो आजके (पूर्वी सिंहभूम एवं पश्चिमी सिंहभूम) में विभाजित है। तक़दीर से उस जिले के कलेक्टर भी एक सिख आईएएस जीएस कांग साहब थे। कांग साहब बाद में नितीश कुमार की सरकार में विभाजित बिहार के चीफ सेकेट्री भी बने थे।


दंगों के दौरान जमशेदपुर के सिख कितने खौफज़दा थे कांग साहब को भी इसका अंदाजा नहीं था। मगर एक दिन दंगों के दौरान जैसे ही कांग साहब की सरकारी एम्बेस्डर गाड़ी जमशेदपुर शहर के बीच पहुँची। दंगाइयों ने गाड़ी में बैठे सिख को कोई आम सा सिख समझकर घेर लिया। दंगाई हथियारों के साथ उनकी गाड़ी पर हमला करने ही वाले थे कि पीछे से उन्हें स्काउट करती हुई पुलिस एवं पैरामिलिट्री की गाड़ियां वहाँ आ पहुँची।

पुलिस एवं पैरामिलिट्री की गाड़ियां देख घबराएँ दंगाइयों ने वहाँ से भागने में वक़्त नहीं लगाया। वहीं अपने साथ हुई इस अप्रत्याशित घटना के बाद कांग साहब को शहर के हालात समझते देर न लगी। उन्होंने तुरंत अपने मातहत अधिकारियों को आदेश देकर ये पता लगाने को कहा कि शहर में कितने गुरुद्वारे हैं और जमशेदपुर में सिख/पंजाबी समाज कहाँ-कहाँ रहता है।

चंद ही घंटों में कलेक्टर के आदेश पर जमशेदपुर के उन सभी मोहल्लों एवं गुरूद्वारों को फ़ोर्स की सुरक्षा मिल गई जहाँ-जहाँ सिख/पंजाबियों की बसाहट थीं। तो, कुछ इस तरह जमशेदपुर के सिख/पंजाबी समाज को किसी तरह सुरक्षा मिल पाई थी।


घरवाले बताते हैं कि उस दौरान हमारे मोहल्ले में सिर्फ चार घरों में टीवी थी, शाम होते ही उन घरों के बाहर लोगों का जमावड़ा लग जाता सभी पंजाबी में एक दूसरे से बात करते थें। दिल्ली के बिगड़ते हालत से हर कोई खौफ़ में था इसलिए महिलाओं और बच्चों को घर में बंद कर दिया जाता था। नौजवानों की ड्यूटी कॉलोनी के हर मुख्य प्रवेशद्वार पर हथियारों (डंडों और तलवारों) के साथ लगा दी गई थीं। वे सारी-सारी रात जागकर पहरा देते थे ताकि कोई दंगाई, कोई मौकापरस्त बदलती फिज़ा का फ़ायदा लेने की कोशिश न कर पाएं। इस दौरान ठंड से बचने के लिए वो रातभर अलाव जलाकर रखते थें।     


ज़्यादातर बुज़ुर्ग कॉलोनी के घरों की ऊँची-ऊँची छतों पर रातभर डटें रहते। कुछ के पास दोनाली बंदूके थी। ये बंदूके उस वक़्त पूरे मोहल्ले को हिम्मत देने के काम आई थीं। रात में रुक-रुक कर किसी न किसी छत (जो उस वक़्त रक्षा में तैनात स्नाईपर्स) का ठिकाना बन चुकी थी, से एयर फायरिंग की आवाजें आती रहती थी, ताकि कोई भी दंगाई/मौकापरस्त किसी गलत इरादें से कॉलोनी में घुसने की हिम्मत न कर पाएं।


मेरे एक जाननेवाले ने मुझे अपने मोहल्ले का एक और किस्सा भी सुनाया था। जमशेदपुर के उस मोहल्ले में सिख/पंजाबी न के बराबर रहते थे। मगर एक सरदारजी वहाँ सालों से अपनी तीन जवान बेटियों और बीवी के साथ रहते थे। अगर आपको पुराने घरों की बनावट के कुछ आईडिया होगा तब आप जानते होंगे कि पहले के घरों में, दो घरों के बीच दीवारें न होकर एक अंदरूनी दरवाज़ा होता था। मेरे उस जानने वाले के घर में भी एक अंदरूनी दरवाज़ा था जिसका दूसरा छोर उस सरदारजी के घर की ओर खुलता था।

दंगे के दौरान एक रोज़ मोहल्ले के कुछ असामाजिक तत्वों ने उसे और उसके बड़े भाई को सड़क पर घेर लिया। उनका टारगेट सरदारजी के घर में लूटपाट करनी थी। उन लोगों ने मेरे जाननेवाले और उसके भाई को बड़े ही प्यार से कहा कि "हमें पता है कि तुम्हारे और सरदार जी के घर के बीच भी एक अंदरूनी दरवाज़ा है। किसी को कुछ पता नहीं चलेगा, हमलोग रात को आएँगे तुम बस दरवाज़ा खोल देना बाकी हम देख लेंगे।"


सरदारजी और मेरे परिचित के परिवार का सालों का साथ था। वो कैसे इस तरह की घिनौनी हरकत में उन गुंडों के पाप के भागीदार बन सकते थे। मगर वहीं उन्हें ये बात भी डरा रही थी कि अगर उन्होंने गुंडों की बात नहीं मानी तो उनका गुस्सा उसके परिवार पर भी निकल सकता है।

दोनों भाई इसी कशमकश में घर पहुँचे और पूरी बात अपने माता-पिता को बताई। पूरा परिवार धर्म संकट में फंस गया कि करें तो करें क्या? आखिरकार उन्होंने इस बावत सरदारजी से बात करने का मन बनाया और उनके घर चले गए। मोहल्ले के उन गुंडों की साज़िश के बारे में जानकार सरदारजी के हाथ-पाँव फूल गए उन्हें समझ नहीं आया कि वो क्या करें !


आखिरकार दोनों परिवारों ने मिलकर किसी तरह सरदारजी के परिवार के सभी ज़रूरी बंधवाएं और फिर किसी तरह सूरज ढलने से पहले उस सिख परिवार को उनके रिश्तेदारों के वहाँ पहुंचवाया। रात वो गुंडों की फौज अपने कहे अनुसार मेरे उस परिचित के घर आ धमकी मगर वक़्त रहते समझदारी और हिम्मत से काम लेने से सरदारजी का कम से कम नुकसान हुआ।                         


Comments

Popular posts from this blog

कादर खान- मुफ़्लिसी से मस्खरी के उस्ताद तक का सफ़र !

81 साल की उम्र में बॉलीवुड के हास्य अभिनेता एवं हिंदी फिल्मों के जाने माने अभिनेता कादर खान का निधन (Kadar Khan Died) हो गया। भारतीय फिल्मों (Indian Movies) के ज़्यादातर दर्शक कादर खान को उनके कॉमेडी वाले रोल्स के लिए जानते हैं। मगर असल मायनों में कादर खान का शुरूआती जीवन कितना संघर्ष भरा और दुखदायी रहा उसकी जानकारी शायद ही किसी को हों। मेरे इस ख़ास ब्लॉग में पढ़िए कादर खान की जिंदगी से जुड़े कुछ सच्चे किस्सों को...
कादर खान का परिवार मूलतः काबुल का रहनेवाला था। वे वहींएक मुस्लिम परिवार मेंजन्मे थें। उनके वालदैन बेहद ग़रीब थे। एक तरह से कहें तो खाने के लाले थे। कादर खान से पहले उनके तीन भाई और थे जो सभी आठ साल के होते-होते मर गए। जब कादर खान पैदा हुए, तब उनकी माँ का अपनी पिछली औलादों की मौत का डर फिर से उन्हें परेशान करने लगा। उन्हें लगा कि ये जगह उनके बेटे के लिए सही नहीं हैं। वे बेहद डरी हुई थीं ” उन्हें कुछ समझ नहीं आ रहा था कि वे कहाँ जाए। बहरहाल वे वहाँ से अपने पति के साथ निकल पड़ी और पता नहीं कैसेवेआजके मुंबई पहुँच गए। अनजाना मुल्क, अनजान शहर। न कोई जान-पहचान वाला न ही पास में एक धेला।

कौन हूँ मैं ???

!! हर बार आँख खुलती तो सोचता हूँ कि कौन हूँ मैं , ध्यान से जब दर्पण देखा,परेशानियों से घिरा एक मानव हूँ मैं !!
!! दुःख में तकलीफ से जूझता हूँ मैं आंसू भी निकलते हैं तो पोंछ लेता हूँ मैं !!
!! लोगों ने कहा कि गुज़रा हुआ कल हूँ मैं, समय के साथ हमेशा झगड़ लेता हूँ मैं !!
!! न जाने कल क्या होगा ये सोचकर आदर-अनादर सब भूल जाता हूँ मैं !!
!! बाद में सोचकर पछताता हूँ मैं कभी मन में बैर नहीं रखता हूँ मैं!!
!! फिर भी लोग सोचते हैं कि कितना फ़ालतू हूँ मैं, हक़ीक़त मैं आखिर कौन हूँ मैं !!

!! भगवान को किनारे कर आगे बढ़ जाता हूँ मैं फिर सोचता हूँ कि ऐसा क्यों करता हूँ मैं !!
!! चाहत को भी अपनी पा न सका हूँ मैं उसके लौटने के इंतज़ार मैं बैठा हूँ मैं !!
!! आँख बंदकर विश्वास कर लेता हूँ मैं

! तू जब बिछड़ेगी !

!! तू जब बिछड़ेगी तो कयामत होगी कम फ़िर भी न किसी क़ीमत पर मेरी चाहता होगी !!
!! तेरी बातों को यादकर हसेंगे-रोयेंगे संग तेरे बिता हर लम्हा मेरी ताउम्र की दौलत होगी !!
!! रख लेना मुझे याद किसी बुरी याद की तरह फिर भी न कभी तुझसे कोई शिकायत होगी !!


!! लौट आने की तेरे दुआ हम रोज़ पढ़ेंगे न जाने किस घड़ी ख़ुदा की हमपर रहमत होगी !!
!! तेरी तस्वीरों से सजाऊंगा अपने घर की दीवारें हर घड़ी मेरे अंजुमन में तेरी ही महक होगी !!
!! तू जब बिछड़ेगी तो क़यामत होगी कम फ़िर भी न किसी क़ीमत पर मेरी चाहता होगी !!