सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

तो क्या डूब जाएगा गोवा की मौज-मस्ती का सूरज ?

ग़ोवा का नाम ज़हन में आते ही जो सबसे पहली तस्वीर हमारी आँखों के सामने उभरकर आती है वो है दूर तक पसरा समंदर, बियर की बोतलें और खुलम-खुल्ला मौज करते देसी, (Foreign Travelers) विदेशी सैलानी। मगर अब शायद आने वाले दिनों में आपको गोवा की ये तस्वीर इतिहास की बात लगे, क्योंकि राज्य सरकार ने गोवा की सूरत बदलने का मन बना लिया है। और शायद जल्द ही न आप वहाँ जाकर समंदर किनारे बियर पी पाएंगे और न ही किसी और तरह की धूम धड़ाके वाली पार्टियाँ कर पाएंगे।

      
दरअसल सरकार ने गोवा टूरिस्ट प्लेसेस (protection and management act 2001) में संशोधन का प्रस्ताव तैयार कर लिया है।


अब गोवा में बीच पर बैठकर शराब पीना और खुले में खाना पकाना सैलानियों को महंगा पड़ेगा। इसके साथ ही खुले में कचरा फेंकना भी आपको मुश्किल में डाल सकता है। गोवा सरकार ने इन तीनों चीजों को अपराध की श्रेणी में शामिल कर लिया है। अगर अब आपने गोवा जाकर इन तीनों में से कुछ भी किया तो आप पर जुर्माना भी लगेगा और सरकार आपको जेल में भी डाल सकती है।

कितना जुर्माना लगेगा?


नए नियम के अनुसार अगर आप अकेले नए बनाए नियमों का उल्लंघन करते पकड़े गए तो आपको दो हजार रुपए जुर्माने के तौर पर देने होंगे। जबकि अगर दोस्तों/ग्रुप में पकड़े गए तो पूरे ग्रुप को दस हजार रुपए का जुर्माना देना होगा।


हो सकती है तीन महीने की सज़ा भी-


सरकार के अनुसार ये नया निर्णय(Drinking in public) शराब पीकर हुड़दंग मचाने वालों की वजह से होने वाले हादसों को कम करने के लिए लिया गया है। राज्य के पर्यटन मंत्री मनोहर अजगांवकर ने बताया कि 29 जनवरी से शुरू हो रहे गोवा विधानसभा (Goa Assemble) सत्र के दौरान पर्यटन व्यापार अधिनियम में संशोधन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि खुले में शराब पीने वालों पर 10000 रुपए तक जुर्माना लगाया जा सकता है। अगर कोई ऐसा करते हुए कोई पाया जाता है तो उसे तीन महीने तक की सजा भी हो सकती है।

विदेशी सैलानी भी कर सकते हैं किनारा- 

भारत आने वाले विदेशी सैलानियों के लिए गोवा किसी स्वर्ग से कम नहीं हैं। हर साल लाखों की संख्या में विदेशी टूरिस्ट गोवा (Foreign Travelers in Goa) घूमने आते हैं और महीनों तक अपनी छुटियाँ वहीँ बिताते हैं। इसका एक मुख्य कारण उन्हें वहाँ मिलने वाला खुलापन है जिसके लिए वो देश के अन्य पर्यटक स्थलों की बजाए गोवा को प्राथमिकता देते हैं।


घट सकता है सरकार का राजस्व- 


हालांकि अभी इस बात का सरकार ने कोई अनुमान नहीं लगाया गया कि इससे गोवा के पर्यटन पर क्या असर पड़ेगा। इंडियन एक्सप्रेस की एक पुरानी ख़बर के अनुसार साल 2016 में गोवा में कुल 63.31 लाख सैलानी आए थे जिनमें 56.50 लाख भारतीय एवं 6.81 लाख विदेशी सैलानी शामिल थे। ऐसे में जब  गोवा राज्य के राजस्व का एक बड़ा हिस्सा वहाँ के पर्यटन उद्योग (Travel Industry in Goa) से आता है। इसमें शराब, होटल एवं रेस्टोरेंट व्यवसाय की बड़ी भागेदारी होती है। ऐसे में सरकार किस प्रकार अपने नए निर्णय के द्वारा पर्यटन के क्षेत्र में होने वाले संभावित नुकसान की भरपाई करेगी ये बात  देखने वाली होगी। 




टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राखोश- भारत की पहली पीओवी तकनीक आधारित साइकोलॉजिकल थ्रिलर!

तकनीक के इस्तेमाल के मामले में वैसे तो भारतीय सिनेमा हॉलीवुड से अभी बहुत पीछे माना जाता है। लेकिन अब शायद वो दौर शुरू हो गया है जब भारतीय फ़िल्म निर्माता/निर्देशकों ने फ़िल्म निर्माण में कहानी और संगीत के अलावा इससे जुड़े अन्य पहलुओं पर भी गंभीरता से विचार करना शुरू कर दिया है।

शायद ये इसी का नतीजा है कि देश में पहली बार और विश्व सिनेमा के इतिहास में दूसरी बार पीओवी तकनीक का इस्तेमाल कर एक फ़िल्म का सफ़लतापूर्वक निर्माण किया गया है।



क्या है ये पीओवी तकनीक?

पीओवी का मतलब होता है (पॉइंट ऑफ़ व्यू- नज़रिया)। आपने अक्सर फ़िल्मों में किसी ख़ास किरदार के नज़रिए को लेकर फरमाए गए कुछ ख़ास सीन्स या डायलॉग देखे होंगे। लेकिन यदि एक पूरी की पूरी फ़िल्म ही किसी ख़ास क़िरदार के नज़रिए से बना दी जाए, तो क्या कहने!

दरअसल यहाँ सिर्फ़ ये बात ख़ास नहीं है कि एक किरदार विशेष को पूरी कहानी में तवज्जों दी गई है। बल्कि इस फ़िल्म की ख़ासियत ये है कि फ़िल्म का मुख्य कलाकार कोई और नहीं बल्कि फ़िल्म का कैमरा है। जो फ़िल्म के मुख्य किरदार का रोल निभाता है जिसके इर्द-गिर्द फ़िल्म की कहानी घूमती है।

दर्शक इस मुख्य किरदार को देख तो नहीं …

क्या थीं इन अपराधियों की अंतिम इच्छा, यहाँ पढ़ें!

भारत सहित दुनिया के कई देशों में फांसी की सज़ा का प्रावधान आज भी मौजूद है। हालाँकि भारत में फांसी की सज़ा'रेयरेस्ट ऑफ द रेयर' अपराध की श्रेणी में आने वाले अपराधियों को ही दी जाती है। इस कठोर सज़ा के एक बार पक्के हो जाने के बाद ऐसी कई प्रक्रियाएँ होती हैं जिनसे जेल मेन्युअल के तहत हर मुज़रिम को गुज़ारना पड़ता है। ऐसी ही एक ख़ास प्रक्रिया होती है मुज़रिम की अंतिम इच्छा जानने की। जिसे जेल मेन्युअल के तहत मानवीय आधार पर हर मरने वाले से पूछा जाता है और फिर अधिकारी उस पर निर्णय लेते हैं कि क्या अपराधी की अंतिम इच्छा को पूरा किया जा सकता है या नहीं?


ऐसे में जब साल2020की शुरुआत में निर्भया के चार दोषियों को एक साथ फांसी की सज़ा दी जाने वाली है तो ये प्रक्रिया उनके साथ भी अपनाई जाएगी। हालाँकि अभीतक निर्भया के दोषियों से जुड़ी इस प्रक्रिया के बारे में कोई जानकारी मीडिया में नहीं आयी है। लेकिन इसी बीच दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में मृत्युदंड कुछ मुजरिमों ने अपनी कौन-सी ख्वाहिश अंतिम इच्छा के तौर पर ज़ाहिर की थी आइये उनके बारे में जानें।
माइकल नेय- नेपोलियन की सेना के इस बहादुर कमांडर ने अपनी मौत से पह…

हंगामा क्यों है बरपा, पूछताछ ही तो की है ?

अर्णव गोस्वामी के अलावा भी पूरे देश में ऐसे सैकड़ों पत्रकार हैं जो अपना काम बड़ी मेहनत और ईमानदारी से करते हैं। हाँ ये अलग बात है कि वो इतने रसूखदार नहीं हैं कि किसी नेता, मंत्री या राजनीतिक दल या देश की मीडिया ये मठाधीशों को उनकी चिंता हो। ताज़ा उदहारण के तौर पर याद कीजिये उत्तर प्रदेश के मिर्ज़ापुर के सामान्य से पत्रकार पवन जायसवाल को, जिसे स्थानीय प्रशासन द्वारा इसलिए प्रताड़ित किया गया, उसपर मुकदमा कर दिया गया। क्योंकि उसने अपनी एक ग्राउंड रिपोर्ट में मिडडे मील के नाम पर सरकारी स्कूल के बच्चों को नामक रोटी परोसने की घटना को उजागर किया था। न कि स्टूडियो में बैठकर कोरे आरोप लगाए थे। ऐसी स्पष्ट और साहसिक पत्रकारिकता करने वाले मीडियाकर्मी के लिए क्या किसी बड़े पत्रकार ने, मीडिया के मठाधीश ने इंसाफ दिलाने के लिए कोई पहल की ?

ऐसे में अर्णव गोस्वामी का पक्ष लेने वाले पत्रकारों, नेताओं आदि को ये याद रखना चाहिए कि, अर्णव पूरे भारतीय मीडिया या भारतीय पत्रकारों का प्रतिनिधि नहीं है। साथ ही वर्तमान में वो एक बड़े मीडिया हाउस के मालिक भी हैं इसलिए इस बात से कतई इंकार नहीं किया जा सकता कि उनका इन्ट्रे…