Skip to main content

दिल्ली बदली अब देश बदलो लेकिन थोड़ा तरीका भी बदलो !

'आपके लिए समय आ गया है कि केजरीवाल अब सीएम की कुर्सी मनीष सिसोदिया को सौंप कर केंद्र की राजनीति का रुख करें। देश की जनता के हित में काम करने का विचार रखने वाले मुख्यमंत्रियों के साथ मिलकर देश के विकास और उन्नति की नई परिभाषा तय करें।


अरविंद केजरीवाल

बाक़ी गैर भाजपा शासित राज्य जो दिल्ली की तरह शिक्षास्वास्थ्य जैसी लोककल्याणकारी नीतियों को लागू अपने नागरिकों के जीवन स्तर में सुधार करना चाहते हैं। इसके लिए सबसे ज़रूरी शर्त सरकारों द्वारा किये जाने वाली फिजूलखर्ची पर रोक लगाना है। उसके बाद सरकारी महकमों में व्याप्त भ्रष्टाचार पर काबू पाना और उसके बाद उन्हें सर्वप्रथम अपने राज्य की जनता को मूलभूत सुविधाएँ मुहैया कराने की ऐसी नीतियाँ बनानी चाहिए जो उनके राजस्व के अनुकूल हों और जिन्हें सही मायनों में जनता को डिलेवर किया जा सके। 


दिल्ली सरकार की योजना

क्योंकि अरविंद केजरीवाल की सरकार का राजस्व मुफ्त बिजली-पानी देकर भी सरप्लस में रहा है। एक रिपोर्ट के अनुसार देश के नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक (सीएजी) की एक रिपोर्ट में इस बात का उल्लेख किया कहा गया है कि वर्ष 2013-14 से लेकर 2017-18 तक दिल्ली सरकार का राजस्व सरप्लस में रहा है।


सीएजी रिपोर्ट  दिल्ली सरकार

हैरानी की बात ये है कि ये सरप्लस तब है जबकि दिल्ली को केंद्र से मिलने वाला अनुदान घट गया। दिल्ली सरकार को 2016-17 में द्वारा 2, 825 करोड़ रुपए का अनुदान दिया गया था। जबकि 2017-18 में दिल्ली को केंद्र से मात्र 2, 184 करोड़ रुपए का अनुदान ही मिला। एक अन्य रिपोर्ट के मुताबिक 2019-20 में दिल्ली सरकार ने 5, 236 करोड़ रुपए के रिवेन्यू सरप्लस का लक्ष्य रखा है। जबकि 2018-19 में राज्य सरकार का अनुमानित रिवेन्यू सरप्लस 4, 931 करोड़ रुपए था।

लेकिन फिर भी सिर्फ मुफ्त बांटने वाली योजनाएं हमेशा किसी सरकार या पार्टी के लिए जीत का सबब बने, ये कोई ज़रूरी नहीं। क्योंकि ऐसी योजनाएं मूल रूप से सरकारी खजाने से चलाई जाती हैं और सरकारी खजाना लोगों के टैक्स के पैसों से भरता है। ऐसे में केजरीवाल सरकार सहित बाकी सभी राज्यों की सरकारों के लिए ये बहुत ज़रूरी है कि वो अपने राज्य के लोगों को नौकरियों और व्यापार के अवसर प्रदान करें। 


सरकारें ऐसे कार्यक्रम चलाएं जिससे भविष्य के लिए रोजगार और उधोग-धंधें का निर्माण विकास हों और उससे टैक्स कि वसूली कर जनकल्याणकारी योजनाओं के खर्च को पूरा किया जा सके। वरना एक समय बाद न सिर्फ ऐसी योजनाओं को न सिर्फ बंद करना पड़ सकता है। बल्कि सरकारी खजाने में भारी नुकसान भी उठाना पड़ सकता है।  जिससे जनता के बीच एक नकारात्मक संदेश जाता है।


दिल्ली सरकार की योजनाएं

साथ ही  लोककल्याण के नाम पर निशुल्क सेवाएं बांटने से अच्छा होता है कि उनका स्वरुप कुछ इस तरह का बनाया जाए जिससे कि जनता को उसका लाभ दीर्घकाल तक मिलता रहे। जैसे की बढ़िया स्कूल, अस्पताल, कॉलेज का निर्माण कर न कि बिजली और पानी का बिल मुफ्त कर। बिजली पानी जैसी सेवाओं को मुफ्त कि तुलना में सस्ता बना रखना ज्यादा समझदारी वाला निर्णय हो सकता है।  क्योंकि  एक औसतन नागरिक ऐसी सेवाओं को एक समय बाद भूलने लग जाता है कि उसने पिछले पांच दस सालों में बिजली पानी का बिल न देकर कितना धन बचा लिया। लेकिन लगातार सुधरता शिक्षण संस्थानों और अस्पतालों स्वास्थ्य सेवाओं का स्तर उसे प्रत्यक्ष रूप से समझ आता है और वह  उसकी खुलकर कद्र करता है और अपनी कमाई से सरकार को टैक्स देने से भी हिचकिचाता नहीं है।क्योंकि वो अपने आस -पास में सरकारी सुविधाओं में हो रहे सुधार को स्पष्ट रूप से देख रहा होता है।  


सरकारी खर्च और सरकारी भ्रष्टाचार के मामले में भी यही फार्मूला काम करता है जब आम नागरिक का अनुभव बदलता है जब उसके सरकारी काम बिना किसी देर के बिना किसी घूस के आसानी से पूरे हो जाते हैं। वहीँ आज के शिक्षित होते समाज में सरकारों द्वारा जनता के पैसों के दुरुप्रयोग को भी छिपा पाना किसी सरकार के लिए आसान बात नहीं है। ऐसे में जनता  उस खर्च को कम से कम कर राजस्व में वृद्धि कि जा सकती है और जनता को विशवास में लिया जा सकता है कि सरकार आपके पैसों का सही इस्तेमाल करती है।   

जहाँ तक रही बात उन लोगों की जो मुफ़्त बिजली पानी की सुविधाओं को लेकर पूरी दिल्ली की जनता को मुफ्तखोर बताकर आलोचना कर रहें हैं। उन्हें पहले वह सभी सब्सिडी छोड़ देनी चाहिए जिनके लिए केंद्र सरकार करोड़ों रूपये स्वाह कर चुकी है। साथ ही भाजपा ने जनता को लुभाने के लिए किस तरह के वादे अपने संकल्प पत्र में किये थें उन्हें ज़रूर पढ़ना जानना चाहिए।  


दिल्ली भाजपा का संकल्प पत्र 2020

उनके लिए संदेश ये है कि कम से कम अब से ही अपनी राज्य सरकार के कार्यकलापों पर नज़र रखना शुरू कर दें। इस बात पर ध्यान दें कि आपके दिए टैक्स के पैसों का आपकी राज्य सरकार कहाँ इस्तेमाल करती है। कहीं आपके राज्य के मुख्यमंत्री ने अपने लिए 191 करोड़ का एयरक्राफ्ट तो नहीं खरीद लिया। या फिर विधायकों मंत्रियों के बंगलों की मरम्मत में करोड़ों तो नहीं फूंक रहा, या फिर राज्य में निवेश को आकर्षित करने के नाम पर आपके दिए टैक्स के पैसों को मौज-मस्ती वाले मेलों जैसे कि मोमेंटम झारखंड में तो बर्बाद तो नहीं कर दिया।


गुजरात सरकार

कहीं वह आपके टैक्स की गाढ़ी कमाई को सैफई महोत्सव या दीपोउत्सव या पार्क और मूर्तियों के निर्माण के नाम पर बर्बाद तो नहीं कर रहे हैंया अपने मंत्रियों के लिए फार्च्यून कारें तो नहीं खरीद रहा पता लगाइए।


मोमेंटम झारखंड

डाटा उठाकर देखें कि पिछले पाँच सालों में आपके राज्य में कितने सरकारी स्कूलों की बिल्डिंग बनीअस्पतालों में दवा, डॉ, जांच विभाग की क्या स्थिति हैनौजवानों की नौकरियों को लेकर राज्य सरकार के पास क्या प्लान हैंमतलब कि क्या आपकी राज्य सरकार किसी भी सूरत में आपको आपके दिए टैक्स का लाभ वापस दे रही है या नहीं। मुफ़्त न सही सस्ती बिजली ज़रूरत के मुताबिक पानीसरकारी अस्पतालों में डॉ और दवाईयों की सुविधाएँ।
 उच्च शिक्षा योजना दिल्ली सरकार


सरकारी स्कूलों में ऐसे शिक्षक जो स्वयं शिक्षित हों। न कि उन राज्यों के शिक्षकों की तरह जो संडे मंडे की स्पेल्लिंग से भी अनभिज्ञ हैं। या फिर जिन्हें देश के प्रधानमंत्री और अपने राज्य के मुख्यमंत्री का नाम भी न पता हो। 
  


Comments

Popular posts from this blog

राखोश- भारत की पहली पीओवी तकनीक आधारित साइकोलॉजिकल थ्रिलर!

तकनीक के इस्तेमाल के मामले में वैसे तो भारतीय सिनेमा हॉलीवुड से अभी बहुत पीछे माना जाता है। लेकिन अब शायद वो दौर शुरू हो गया है जब भारतीय फ़िल्म निर्माता/निर्देशकों ने फ़िल्म निर्माण में कहानी और संगीत के अलावा इससे जुड़े अन्य पहलुओं पर भी गंभीरता से विचार करना शुरू कर दिया है।

शायद ये इसी का नतीजा है कि देश में पहली बार और विश्व सिनेमा के इतिहास में दूसरी बार पीओवी तकनीक का इस्तेमाल कर एक फ़िल्म का सफ़लतापूर्वक निर्माण किया गया है।



क्या है ये पीओवी तकनीक?

पीओवी का मतलब होता है (पॉइंट ऑफ़ व्यू- नज़रिया)। आपने अक्सर फ़िल्मों में किसी ख़ास किरदार के नज़रिए को लेकर फरमाए गए कुछ ख़ास सीन्स या डायलॉग देखे होंगे। लेकिन यदि एक पूरी की पूरी फ़िल्म ही किसी ख़ास क़िरदार के नज़रिए से बना दी जाए, तो क्या कहने!

दरअसल यहाँ सिर्फ़ ये बात ख़ास नहीं है कि एक किरदार विशेष को पूरी कहानी में तवज्जों दी गई है। बल्कि इस फ़िल्म की ख़ासियत ये है कि फ़िल्म का मुख्य कलाकार कोई और नहीं बल्कि फ़िल्म का कैमरा है। जो फ़िल्म के मुख्य किरदार का रोल निभाता है जिसके इर्द-गिर्द फ़िल्म की कहानी घूमती है।

दर्शक इस मुख्य किरदार को देख तो नहीं …

क्या थीं इन अपराधियों की अंतिम इच्छा, यहाँ पढ़ें!

भारत सहित दुनिया के कई देशों में फांसी की सज़ा का प्रावधान आज भी मौजूद है। हालाँकि भारत में फांसी की सज़ा'रेयरेस्ट ऑफ द रेयर' अपराध की श्रेणी में आने वाले अपराधियों को ही दी जाती है। इस कठोर सज़ा के एक बार पक्के हो जाने के बाद ऐसी कई प्रक्रियाएँ होती हैं जिनसे जेल मेन्युअल के तहत हर मुज़रिम को गुज़ारना पड़ता है। ऐसी ही एक ख़ास प्रक्रिया होती है मुज़रिम की अंतिम इच्छा जानने की। जिसे जेल मेन्युअल के तहत मानवीय आधार पर हर मरने वाले से पूछा जाता है और फिर अधिकारी उस पर निर्णय लेते हैं कि क्या अपराधी की अंतिम इच्छा को पूरा किया जा सकता है या नहीं?


ऐसे में जब साल2020की शुरुआत में निर्भया के चार दोषियों को एक साथ फांसी की सज़ा दी जाने वाली है तो ये प्रक्रिया उनके साथ भी अपनाई जाएगी। हालाँकि अभीतक निर्भया के दोषियों से जुड़ी इस प्रक्रिया के बारे में कोई जानकारी मीडिया में नहीं आयी है। लेकिन इसी बीच दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में मृत्युदंड कुछ मुजरिमों ने अपनी कौन-सी ख्वाहिश अंतिम इच्छा के तौर पर ज़ाहिर की थी आइये उनके बारे में जानें।
माइकल नेय- नेपोलियन की सेना के इस बहादुर कमांडर ने अपनी मौत से पह…

...इसलिए भारत ही नहीं वैश्विक अर्थव्यवस्था पर छा रहें हैं मंदी के बादल !

भारतीय अर्थव्यवस्था की चाल पिछले कुछ महीनों से स्पष्ट रूप से आने वाली मंदी के संकेत दे रही है। हालांकि अर्थव्यवस्था के जानकारों को ये दबाव एक के बाद एक किये गए नोटबंदी और जीएसटी के प्रयोग के तुरंत बाद से ही समझ आने लगा था। मगर केंद्र सरकार के अड़ियल रवैये के कारण इसका कोई ठोस हल नहीं निकल पाया। मेरे अपने शहर जमशेदपुर जहां एशिया की सबसे विशाल(Adityapur IndustrialAreaDevelopment Authority - AIADA Jharkhand India). में स्थित 1100 छोटी-बड़ी फैक्टरियां इस मंदी की शुरूआती भेंट चढ़ चुकी हैं
कारण टाटा मोटर्स का अपना उत्पाद घटाया जाना। जिनके लिए ये सभी फैक्टरियां विभिन्न प्रकार के ऑटो पार्ट्स बनाती थी। आप खुद अंदाज़ा लगा सकते हैं कि कितने लोग बेरोज़गार हुए होंगे कितने परिवारों की रोज़ी-रोटी का संकट आन खड़ा हुआ होगा। मगर दुर्भाग्य से ये संकट शायद जल्द न टल पाए क्योंकि डगमगाती भारतीय अर्थव्यवस्था के बाद अब जर्मनी और चीन जैसी बड़ी आर्थिक शक्तियों ने भी बुरे संकेत देने शुरू कर दिए हैं पूरी ख़बर नीचे पढ़ें...

जीएसटी और नोटबंदी के प्रयोग से चरमराई भारतीय अर्थव्यवस्था एवं भारतीय बाज़ार में तेज़ी से ख़राब हो रही ऑटो…