सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

अब बताओ डिप्रेशन कैसा है?

डिप्रेशन ग्रस्त एक सज्जन जब पचास साल से ज्यादा के हो गये तो उनकी पत्नी ने एक काउंसलर का अपॉइंटमेंट लिया। पत्नी ने काउंसलर को बताया:- "ये भयंकर डिप्रेशन में हैं, " और इनकी ऐसी मनोस्थिति के कारण मैं भी ठीक नही हूँ।

 

Depress man

पत्नी की बातें सुनने के बाद काउंसलर ने काउंसलिंग शुरू की, उन्होंने उस व्यक्ति से कुछ निजी बातें भी पूछी और उसकी पत्नी को बाहर बैठने को कहा।

सज्जन बोलते गए…

बहुत परेशान हूं…

चिंताओं के बोझ तले दब हुआ हूं…

नौकरी का प्रेशर...

बच्चों के एजूकेशन और जॉब की टेंशन...

घर का लोन, कार का लोन...

कुछ मन नही करता...

दुनिया मुझे तोप समझती है...

पर मेरे पास कारतूस जितना भी क्षमता नही....

मैं डिप्रेशन में हूं...

कहते हुए पूरे जीवन की किताब खोल दी।

 

Counseling

तब विद्वान काउंसलर ने कुछ सोचा और पूछा, "दसवीं में किस स्कूल में पढ़ते थे?" सज्जन ने उन्हें स्कूल का नाम बता दिया।

काउंसलर ने कहा:-

"आपको उस स्कूल में जाना होगा। आप वहां से आपकी दसवीं क्लास का रजिस्टर लेकर आना, अपने साथियों के नाम देखना और उन्हें ढूंढकर उनके वर्तमान हालचाल की जानकारी लेने की कोशिश करना। सारी जानकारी को डायरी में लिखना और एक माह बाद मुझे मिलना।"

 

सज्जन स्कूल गए, मिन्नतें कर रजिस्टर ढूँढवाया फिर उसकी कॉपी करा लाये जिसमें लगभग 65 नाम दर्ज़ थे। महीना भर दिन-रात कोशिश की फिर भी बमुश्किल अपने 35-40 सहपाठियों के बारे में जानकारी एकत्रित कर पाये।

school-register

आश्चर्य!!!

उसमें से 20 लोग मर चुके थे...

7 विधवा/विधुर और 13 तलाकशुदा थे...

10 नशेड़ी निकले जो बात करने के भी लायक नहीं थे...

कुछ का पता ही नहीं चला कि अब वो कहां हैं...

5 इतने ग़रीब निकले की पूछो मत...

6 इतने अमीर निकले की यकीन नहीं हुआ...

कुछ केंसर ग्रस्त, कुछ लकवा, डायबिटीज़, अस्थमा या दिल के रोगी निकले...

Wheal Chair

एक दो लोग एक्सीडेंट्स में हाथ/पाँव या रीढ़ की हड्डी में चोट से बिस्तर पर थे...

कुछ के बच्चे पागल, आवारा या निकम्मे  निकले...

1 जेल में था...

एक 50 की उम्र में सैटल हुआ था इसलिए अब शादी करना चाहता था, एक अभी भी सैटल नहीं था पर दो तलाक़ के बावजूद तीसरी शादी की फिराक में था...

महीने भर में दसवीं कक्षा का रजिस्टर भाग्य की व्यथा ख़ुद सुना रहा था...

काउंसलर ने पूछा:- "अब बताओ डिप्रेशन कैसा है?"

इन सज्जन को समझ आ गया कि उसे कोई बीमारी नहीं है, वो भूखा नहीं मर रहा, दिमाग एकदम सही है, कचहरी पुलिस-वकीलों से उसका पाला नही पड़ा, उसके बीवी-बच्चे बहुत अच्छे हैं, स्वस्थ हैं, वो भी स्वस्थ है, डाक्टर, अस्पताल से पाला नहीं पड़ा...

सज्जन को महसूस हुआ कि दुनिया में वाकई बहुत दुख है और मैं बहुत सुखी और भाग्यशाली हूँ।

Happy Man

दूसरों की थाली में झाँकने की आदत छोड़ कर अपनी थाली का भोजन प्रेम से ग्रहण करें। तुलनात्मक चिंतन न करें, सबका अपना प्रारब्ध होता है।

और फिर भी आपको लगता है कि आप डिप्रेशन में हैं तो आप भी अपने स्कूल जाकर दसवीं कक्षा का रजिस्टर ले आयें और..😊..😊..

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हंगामा क्यों है बरपा, पूछताछ ही तो की है ?

अर्णव   गोस्वामी के अलावा भी पूरे देश में ऐसे सैकड़ों पत्रकार हैं जो अपना काम बड़ी मेहनत और ईमानदारी से करते हैं। हाँ ये अलग बात है कि वो इतने रसूखदार नहीं हैं कि किसी नेता, मंत्री या राजनीतिक दल या देश की मीडिया ये मठाधीशों को उनकी चिंता हो। ताज़ा उदहारण के तौर पर याद कीजिये उत्तर प्रदेश के मिर्ज़ापुर के सामान्य से पत्रकार पवन जायसवाल को, जिसे स्थानीय प्रशासन द्वारा इसलिए प्रताड़ित किया गया, उसपर मुकदमा कर दिया गया।   क्योंकि उसने अपनी एक ग्राउंड रिपोर्ट में मिडडे मील के नाम पर सरकारी स्कूल के बच्चों को नामक रोटी परोसने की घटना को उजागर किया था। न कि स्टूडियो में बैठकर कोरे आरोप लगाए थे। ऐसी स्पष्ट और साहसिक पत्रकारिकता करने वाले मीडियाकर्मी के लिए क्या किसी बड़े पत्रकार ने, मीडिया के मठाधीश ने इंसाफ दिलाने के लिए कोई पहल की ?         ऐसे में अर्णव गोस्वामी का पक्ष लेने वाले पत्रकारों, नेताओं आदि को ये याद रखना चाहिए कि, अर्णव पूरे भारतीय मीडिया या भारतीय पत्रकारों का प्रतिनिधि नहीं है। साथ ही वर्तमान में वो एक बड़े मीडिया हाउस के मालिक भी हैं इसलिए इस बात से कतई इंकार नहीं किया ज

यो छोरियां के छोरों से कम सै?

                           !! गर देखना है मेरी उड़ान को तो जरा और ऊँचा करलो आसमान को !! भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान मिताली राज ने एक दिवसीय क्रिकेट मैच की दुनिया में पुराने सभी रिकार्ड्स को ध्वस्त कर एक नया कीर्तिमान स्थापित कर दिया । मगर जिस देश में क्रिकेट को धर्म माना जाता है वहां क्रिकेट के पुजारी , पंडे , भक्तों में मुझे वैसा उत्साह , वैसी ख़ुशी खोजे नहीं मिल रही जैसी हमारे पुरुष क्रिकेट के खिलाड़ी देवताओं के प्रति देखने को मिलती है । क्या कारण हो सकता है इस भेद-भाव का , ऐसी अनदेखी , सुस्ती का ? शायद महिला क्रिकेट से होने वाली कमाई इसका स्टारडम ही एक मुख्य वजह है कि ज़्यादातर क्रिकेट प्रेमी जो किसी भी मैच के लिए ऑफिस-कॉलेज नागा कर लेते है , अपने व्यापार की हानि बर्दाश्त कर लेते है, ब्लैक में भी टिकट्स खरीद लेते है और रात-रात भर स्टेडियम के बाहर लाइन में एक अदद टिकट के लिए पागलों की तरह खड़े रहते है उन्हें महिला क्रिकेट में या यू कहें कि भारतीय पुरुष क्रिकेट टीम को छोड़कर किसी भी अन्य खेल में वो चमक नहीं दिखती जिसके वो दीवाने है । फिर बात भले महिला क्रिकेट की

गूगल ने इस ऐप की सेवा लेनी बंद कर दी है, आप भी बंदकर दीजिये!

ज़ूम ऐप नाम तो सुना ही होगा आपने! पूरी दुनिया में   कोरोना   संक्रमण के कारण जब लोगों के कामकाज में दिक्कतें आने लगी। तो ,  वर्क फ्रॉम होम   या बाक़ी ऑनलाइन कामों के लिए दुनियाभर के लोगों ने एक दूसरे से जुड़ने के लिए   ज़ूम ऐप   का सहारा लेना शुरू कर दिया। जिससे न ही सिर्फ़ इस ऐप के यूज़र्स/डाऊनलोड्स की संख्या में बेतहाशा बढ़ोतरी दर्ज की गई। बल्कि ज़ूम ऐप बनाने वाली कंपनी के सीईओ   एरिक युआन   की कमाई में भी बेतहाशा वृद्धि देखने को मिली।   लेकिन अब इस ऐप को लेकर रोज़ाना जिस तरह के ख़ुलासे सामने आ रहे हैं वो डराने वाले हैं ,  वो चौकाने वाले हैं  साइबर सुरक्षा   के विशेषज्ञों के हिसाब से इस ऐप पर यूज़र का डाटा बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं है। यानी अगर आप इस ऐप को अपने मोबाइल फोन के ज़रिए इस्तेमाल में लाते हैं तो ये आपके मोबाइल फोन के डेटा   की सेंधमारी कर सकता है। वहीं अगर आप इसे अपने लैपटॉप/डेस्कटॉप के ज़रिए इस्तेमाल में लाते हैं तो ये आपके लैपटॉप में मौजूद सारा डेटा उड़ाकर किसी भी   हैकर   तक पहुंचा सकता है।   गूगल जैसी टेक विशेषज्ञ कंपनी भी न जाने कब इस   असुरक्षित   ऐप के जंजाल में फंस गई।