Skip to main content

Posts

मेरे बारे में

!! मेरे बारे में कोई तो राय उनकी भी होगी उसने भी कभी मोहब्बत की तो होगी !!
!! नहीं चाहते हम इम्तेहाँ और इश्क़ में इम्तहाँ ए इश्क़ में गलतियाँ हमने की तो होंगी !!
!! रूठ कर यूँ ही नहीं चला जाता है अपना कोई रूठने की इजाज़त उसने हमसे माँगी तो होगी !!

!! हर कोई दोस्त रहता नहीं बुरे वक़्त में लेकिन दोस्ती बुरे वक़्त की सभी से होती तो होगी !!
!! समझ न पाऐ हम ज़िन्दगी की शर्तों को ज़िन्दगी ने हमसे कोई ख़्वाहिश की तो होगी !!
!! मुकर जाना करके वादे निभाने के सियासतदानों से उसकी पहचान पुरानी होगी !! 


ऐसे बचाए अपने आधार कार्ड की जानकारी लीक होने से

आधारकार्ड की शुरुआत के दिनों में विपक्ष में रहते हुए भाजपा इसे असुरक्षित बताते हुए इस मुद्दे को लेकर जहां सुप्रीमकोर्ट कोर्ट तक चली गयी थी।वहीँ सत्ता में आने के बाद आज वही भाजपा आधारकार्ड को हर सरकारी योजना से जोड़ने में आतुर है एवं निहायती सुरक्षित भी बता रही है।

हमारी व्यक्तिगत जानकारी सुरक्षित है या नहीं इस बात पर सभी का अपना-अपना मत हो सकता है।आपको यहाँ ये बता दूँ कि चीन सरकार द्वारा चलाई गयी ऐसी ही एक योजना से एकत्रित डेटा आज वहां की सरकार की गलतियों के कारण वहां की कई कंपनियों तक पहुँच चूका है जिसकी खबर कुछ समय पूर्व मीडिया में आई थी। साथ ही हमारे यहाँ भी कई सरकारी पोर्टल्स से लाखों लोगों के आधार कार्ड की जानकारी लीक हो चुकी है। इसमें भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान रहे महेंद्र सिंह धोनी के आधार कार्ड के लीक होने की खबर मीडिया में खासी चर्चा में रही थी।वहीँ चाइना में लीक हुए डेटा में वहां के आम नागरिकों के साथ ही कई प्रतिष्ठित लोगों के डेटा में भी सेंधमारी हो चुकी है जिसमें अलीबाब के फाउंडर जेक मा भी शामिल है।

ऐसे में आधार कार्ड को अनिवार्य बना चुकी भारत सरकार क्या इसके दुरुप्रयोग से …

कहीं आपके ऑफिस में भी तो नहीं घुस आया है ये सांप?

ये कहानी दुनिया के एक बड़े शहर में तेज़ी से बढ़ती एक प्राइवेट कंपनी और उसके कर्मचारियों के बीचबढ़ती आपसी दूरियों की हैकभी छोटे से कमरे से शुरू हुई इस कंपनी के मालिक ने अपने अपने कर्मचारियों के साथ मिलजुल कड़ी मेहनत और आपसी तालमेल से नई ऊचाईयों तक पहुचाया मगर ज्यो-ज्यो कंपनी आगे बढ़ती गयी आपसी तालमेल कहीं पिछड़ता चला गया अब भी मेहनत तो सब करते मगर पेशेवर तरीके से, किसी में भी अपने काम के प्रति पहले सा लगाव नहीं रहा किसी को किसी से कोई मतलब नहीं मालिक का ध्यान सिर्फ और सिर्फ मुनाफा कमाने में रह गया था उसके साथ कंपनी के शुरूआती दिनों में जुड़े कई पुराने लोग अब सिर्फ कर्मचारी बन रह गए थे। जबकि कभी वे और कंपनी के मालिक काफी करीब थे।  

ज़्यादातर कर्मचारियों को छोड़कर सभी ऊँचे पद पर बैठे कर्मचारियों, मालिक के लिए अगल से शानदार कैबिन तैयार हो गए थे अक्सर अपने कर्मचारियों के साथ बैठने वाले मालिक के कैबिन में अब बिना अपपोइंमेट लिए किसी का भी जाना मना हो गया था मालिक एवं ऊँचे पद पर बैठे कर्मचारियों लिए अब एक प्राइवेट बाथरूम भी बन गया था जहां भी बाकि कर्मचारियों के जाने पर पाबन्दी थी धीरे-धीरे ऑफिस…

ऐसे करें खाद्य पदार्थ संबंधी कंपनियों की शिकायत

बात नामी-गिरामी रेस्टोरेंट की करें या फिर पैकेट बंद खाने के विभिन्न आइटम्स बेचने वाली देसी-विदेशी कंपनियों की! भारत में ऐसी ख़बरें अक्सर ही देखने-पढ़ने को मिल जाती है कि अमुक कम्पनी के खाद्य पदार्थ में मरा हुआ कॉक्रोच, कीड़े वगेरा मिलेमगर जानकारी के अभाव में एवं पश्चिमी देशों की तुलना में हमारें देश भारत में उपभोगता संरक्षण के कमज़ोर नियमों के कारण आम उपभोगता ऐसे मामलों में कुछ खास कार्यवाही कर ही नहीं पाता। हालाँकि ऐसा नहीं है कि भारत में उपभोगता के अधिकार को लेकर कोई उपयुक्त नियम नहीं है. मगर जानकारी और जागरूकता के अभाव में अक्सर ऐसे मामले घर के अन्दर ही रफा-दफा हो जाने है। 
जबकि पश्चिमी देशों में तो ऐसी घटनाओं से वहां की जनता एवं उपभोगता संरक्षण, उपभोगता अधिकारों के जानकार बड़ी कड़ाई के साथ निपटते हैवहीँ भारत में ज़्यादातर उपभोगता बहुत हुआ तो कंपनी के द्वारा फ़ूड पैक पर दी गयी ईमेल आई डी पर या तो ईमेल कर अपना गुस्सा निकल लेते है या फिर दौबारा उस कंपनी के सामान खरीदने से तौबा करके। 
आइये आपको बताते है भारत में ऐसे मामलों को लेकर आप कहां शिकायत कर सकते जहां से आपको सही मायनो में न्याय मिल सक…

यो छोरियां के छोरों से कम सै?

!! गर देखना है मेरी उड़ान को तो जरा और ऊँचा करलो आसमान को !!
भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान मिताली राज ने एक दिवसीय क्रिकेट मैच की दुनिया में पुराने सभी रिकार्ड्स को ध्वस्त कर एक नया कीर्तिमान स्थापित कर दिया। मगर जिस देश में क्रिकेट को धर्म माना जाता है वहां क्रिकेट के पुजारी, पंडे, भक्तों में मुझे वैसा उत्साह, वैसी ख़ुशी खोजे नहीं मिल रही जैसी हमारे पुरुष क्रिकेट के खिलाड़ी देवताओं के प्रति देखने को मिलती है।
क्या कारण हो सकता है इस भेद-भाव का, ऐसी अनदेखी, सुस्ती का? शायद महिला क्रिकेट से होने वाली कमाई इसका स्टारडम ही एक मुख्य वजह है कि ज़्यादातर क्रिकेट प्रेमी जो किसी भी मैच के लिए ऑफिस-कॉलेज नागा कर लेते है, अपने व्यापार की हानि बर्दाश्त कर लेते है, ब्लैक में भी टिकट्स खरीद लेते है और रात-रात भर स्टेडियम के बाहर लाइन में एक अदद टिकट के लिए पागलों की तरह खड़े रहते है उन्हें महिला क्रिकेट में या यू कहें कि भारतीय पुरुष क्रिकेट टीम को छोड़कर किसी भी अन्य खेल में वो चमक नहीं दिखती जिसके वो दीवाने है। फिर बात भले महिला क्रिकेट की हो या फिर कब्बड्डी और हॉकी की हर जगह वस्तुस्थिति कमोवेश एक …

बारिश ही तो है !!!!

बारिश ही तो है, भागिए मत, कोई छत मत खोजिए, साथ लाए छाते को बंद भी कर दिया कीजिए कभी–कभी। किस बात का डर है? भीग ही न जाएँगे, तो क्या हुआ नमक थोड़ी है जो गल जाएँगे, पिघल जाएँगे। और फिर जब इस बरसात के बाद सूरज सो कर उठेगा तो सूखा ही देगा आपके कपड़े। तेज़ाब नहीं बरस रहा है मज़ा लीजिए मौसम का ..............

आपकी 999 वाली ब्रांडेड टी शर्ट भी सूख जाएगी और बरसात में उसका ब्रांड भी धूलकर कही छिप नहीं जाएगा। बस अपने स्मार्ट फोने को जरा संभाल के पोलीथिन में रख लीजिए, आज-कल सारे रिश्ते इस में ही तो क़ैद है।


उधर देखिए दूर तक सड़क साफ़ है कोई नहीं आएगा.....इत्मीनान से खड़े हो जाइये बीच सड़क में... वो देखिए पोल लाइट की सुनहरी रौशनी में नाचती बरसात की बूंदों को...........कितनी खुश है आपसे मिलकर, आपके स्पर्श को पाकर, आप नहीं है उनसे मिलकर? 

अरे थोडा धीमा चलिए, जल्दी-जल्दी चलने से क्या बदल जाएगा, ह्म्म्म....!!! ये मौसम बदलाव का मौसम है। हमारे मन का, हमारी कल्पनाओं का, दिमाग से दिल कीतरफ बढ़ने का, थोड़ी भूली सी शरारत एक बार फिर से करने का।

बाबा रे बाबा

बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि के 6 प्रोडक्ट बक्टोक्लेव, अमला चूरन,दिव्या गषर चूरन,बकूची चूरन,त्रिफला चूरन, अश्वगंधा चूरन, अदिव्य चूरन,  नेपाल की लैब में फ़ैल हो गए है. ये वही बाबा रामदेव है जो आपसे पतंजलि के शुद्ध प्रोडक्ट्स  खाने की बात कहते है. गौरतलब है की ये  वही सारे प्रोडक्ट्स हैं जो भारत की लैब में  पास हो जाते है ? कैसे पता नहीं.



 यहाँ ये सोचने वाली बात है की क्या क्या भारत में इनका निर्माण स्तर अलग होता है या फिर नेपाल को जो की बाबा रामदेव के साथी स्वामी बाल कृष्ण की धरती है वहां ही घटिया माल भेजा जाता है. फिलहाल नेपाल की सरकार ने विज्ञापन जारी कर इन सभी प्रोडक्ट्स की बिक्री पर रोक लगा दी है. इसके लिए वहां की सरकार ने बाकायदा एक विज्ञापन भी सभी स्थानीय अख़बारों में दिया है और लोगों को इन सभी प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल न करने की चेतावनी दी है. इससे पहले भी बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि द्वारा बनाया जाने वाला आम्ला जूस का मामला जिसे भारतीय सेना ने लैब टेस्ट में फ़ैल होने के बाद रिजेक्ट कर दिया था काफी चर्चा में था. पतंजलि पर दूसरी कंपनियों के सामानों पर अपना लोगो लगाकर लोगों को भ्रमित कर…